Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Chandrayaan 2: लैंड विक्रम के ISRO के संपर्क टूटने से परेशान वैज्ञानिकों का PM मोदी ने हौसला बढ़ाते हुए कही ये बातें

By Aniket Gupta September 07, 2019

शुक्रवार की देर रात करोड़ों भारतीयों के सपने को उस समय तगड़ा झटका लगा है जब लैंडर विक्रम चंद्रमा की सतह से महज 2.1 किलो मीटर पहले ही इसरो से संपर्क टूट गया। इसके साथ ही 978 करोड़ रुपये लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन के भविष्य पर सस्पेंस बन गया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने संपर्क टूटने का ऐलान करते हुए कहा कि चंद्रमा की सतह से 2.1 किमी पहले तक लैंडर का काम प्लानिंग के मुताबिक था। उन्होंने कहा कि उसके बाद उसका संपर्क टूट गया।

लैंडर विक्रम के संपर्क टूटते ही सभी वैज्ञानिक परेशान हो उठे। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक सेना नायक की तरह वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया। इसके बाद शनिवार की सुबह 8 बजे इसरो मुख्यालय से ही देश को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम निश्चित रूप से सफल होंगे। इस मिशन के अगले प्रयास में भी और इसके बाद के हर प्रयास में भी कामयाबी हमारे साथ होगी।

पीएम ने आगे कहा कि हर मुश्किल, हर संघर्ष, हर कठिनाई, हमें कुछ नया सिखाकर जाती है, कुछ नए आविष्कार, नई टेक्नोलॉजी के लिए प्रेरित करती है और इसी से हमारी आगे की सफलता तय होती हैं। ज्ञान का अगर सबसे बड़ा शिक्षक कोई है तो वो विज्ञान है. विज्ञान में विफलता नहीं होती, केवल प्रयोग और प्रयास होते हैं।

मैं सभी अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के परिवार को भी सलाम करता हूं। उनका मौन लेकिन बहुत महत्वपूर्ण समर्थन आपके साथ रहा। हम असफल हो सकते हैं, लेकिन इससे हमारे जोश और ऊर्जा में कमी नहीं आएगी। हम फिर पूरी क्षमता के साथ आगे बढ़ेंगे।

ये आप ही लोग हैं जिन्होंने अपने पहले ही प्रयास में मंगल ग्रह पर भारत का झंडा फहराया था। इससे पहले दुनिया में ऐसी उपलब्धि किसी के नाम नहीं थी। हमारे चंद्रयान ने दुनिया को चांद पर पानी होने की अहम जानकारी दी।

विज्ञान में हर प्रयोग हमें अपने असीम साहस की याद दिलाता है। चंद्रयान-2 के अंतिम पड़ाव का परिणाम हमारी आशा के अनुसार नहीं रहा, लेकिन पूरी यात्रा शानदार रही है।

Rate this item
(0 votes)
Last modified on Saturday, 07 September 2019 13:25