Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

अगर सावन के चौथे सोमवार को आ जाए ये बड़ा फैसला तो श्रावण मास चौथा सोमवार भी हो जाएगा ऐतिहासिक

jk24x7news.tv jk24x7news.tv jk24x7news.tv

सावन का ये पवित्र महिना भारत के लिए कई मायने में बहुत ही अच्छा और ऐतिहासिक रहा। इस बार श्रावण मास का हर सोमवार इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाएगा। जी हां ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि सावन के पहले सोमवार 22 जुलाई को भारत ने चंद्रयान-2 को श्रीहरिकोटा रेंज से भारतीय समयानुसार 02:43 अपराह्न को सफलता पूर्वक प्रक्षेपित किया।

तो वहीं सावन के दूसरे सोमवार 29 जुलाई को मोदी सरकार ने मुस्लिम महिलाओं के लिए अभिशाप रहा तीन तलाक बिल को राज्यसभा और लोकसभा पास कराके ट्रिपल तलाक नामक बीमारी को जड़ से खत्म कर दिया। इस तरह से सावन का दूसरा सोमवार भी इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया है।

अब बात करें सावन के तीसरे सोमवार की यानि 5 अगस्त 2019 का दिन जम्मू-कश्मीर के लिए आजादी का दिन रहा। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि मोदी सरकार ने घाटी से धारा 370 और 35 A हटाकर राज्य से विशेष दर्जा हटा दिया है। जिन लोगों ने इतिहास में अगस्त क्राति न पढ़ा हो तो हम आपको 5 अगस्त 2019 अगस्त क्रांति के बारे में बताते हैं। अध्यात्मिक तौर पर पवित्र माना जाने वाला सावन महिना यानि अगस्त कई मायनों में क्रांति के तौर पर उभरा है। 3 तलाक कानून में आई क्रांति के बाद कश्मीर में धारा 370 हटाने तक लगभग सभी कुछ ऐतिहासिक रहा है।

अब बात आती है सावन के चौथे सोमवार कि तो लोगों को ऐसी आशा है कि श्रावण मास का आखिरी सोमवार को मोदी सरकार के बाद सुप्रीम कोर्ट चाहे तो ऐतिहासिक कर सकती है क्योंकि 6 अगस्त से सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मुद्दे पर रोजाना सुनवाई होगी। ये बात तो जगजाहिर है कि बीजेपी के लिए राम मंदिर मुद्दा सबसे बड़ा है। 2017 में योगी सरकार भी इसी वादे के साथ सत्ता में आई थी। जिस गति से मोदी सरकार ताबड़तोड़ फैसले ले रही है अगर उसी गति से सुप्रीम कोर्ट भी राम मंदिर पर कोई फैसला ले लेती है तो सावन के आखिरी सोमवार तक राम मंदिर पर कोई न कोई फैसला जरुर आ जाएगा। खैर अब तो ये आने वाला वक्त ही बताएगा कि क्या सावन के आखिरी सोमवार भी बाकी तीन सोमवारों की तरह ऐतिहासिक हो पाएगा की नहीं ?

Rate this item
(0 votes)