Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

विजयदश्मी के मौके पर RSS प्रमुख मोहन भागवत ने मॉब लिंचिंग को लेकर दिया ये बड़ा बयान

विजयदश्मी के मौके पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर में स्थापना दिवस के दौरान कहा कि, भीड़ की हिंसा यानी मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) को संघ से जोड़ कर देखा जाता है । इसको कई बार सांप्रदायिक रंग दे दिया जाता है। भीड़ की हिंसा के नाम पर ये संघ के खिलाफ साजिश है । मोहन भागवत ने मोदी सरकार की जमकर तारीफ भी की ।

नागपुर में सालाना पथ संचलन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोहन भागवत ने मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर कहा कि, कानून व्यवस्था की सीमा का उल्लंघन कर हिंसा की प्रवृत्ति समाज में परस्पर संबंधों को नष्ट कर अपना प्रताप दिखाती है। यह प्रवृत्ति हमारे देश की परंपरा नहीं है, न ही हमारे संविधान में यह है। कितना भी मतभेद हो, कानून और संविधान की मर्यादा में रहें, न्याय व्यवस्था में चलना पड़ेगा ।

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आग कहा कि, मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं से संघ का कोई लेनादेना नहीं है। मॉब लिंचिंग को लेकर कानून बनाए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि इन घटनाओं को पेश कर षड्यंत्र चलाया जा रहा है, ये सबको समझना चाहिए। मोहन भागवत ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक का पहला आंदोलन ही देश में एक विधान और एक परिधान के लिए हुआ था. मोहन भागवत ने कहा कि इस सरकार में जनता ने विश्वास दिखाया है ।

Rate this item
(0 votes)