भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव का असर अब दोनों देशों के संबंधों पर पड़ने लगा है। भारत सरकार ने सोमवार को देश में काम कर रही 59 चीनी ऐप को बैन कर दिया। अब इन कंपनियों को 48 घंटे का वक्त दिया गया है, जिसमें वह अपनी ओर से सफाई पेश कर सकती है। सरकार के द्वारा गठित एक कमेटी सभी कमेटियों की बात सुनेगी।

सूत्रों की मानें, तो सरकार की ओर से एक कमेटी बनाई गई है। जिसमें आईटी, गृह मंत्री, सूचना मंत्रालय और कानून मंत्रालय के अधिकारी शामिल होंगे। इसमें डाटा चोरी को लेकर कंपनियों से सवाल-जवाब होंगे।

सरकार की ओर से गूगल प्ले स्टोर को इन 59 ऐप को अपने यहां से हटाने के लिए निर्देश दे दिए गए हैं। यानी अब ये सभी ऐप इन प्लेटफॉर्म पर नहीं मिलेंगे और कोई नया यूज़र इन्हें डाउनलोड नहीं कर पाएगा। इन दो कंपनियों के अलावा सरकार ने इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स से भी इन ऐप को ब्लॉक करने को कहा है।

सरकार के सूत्रों का ये भी कहना है कि ये अंतिम लिस्ट नहीं है, सरकार की ओर से कुछ और नई ऐप का नाम इनमें जोड़ा जा सकता है। यानी सुरक्षा के लिहाज से जो ऐप्लिकेशन खतरा होंगी, उन्हें भी बैन किया जा सकता है।

आपको बता दें कि सोमवार देर शाम को ही सरकार ने टिकटॉक, वीचैट समेत कुल 59 चाइनीज़ मोबाइल ऐप को देश में बैन कर दिया था। इसके बाद रात 12 बजे के बाद से ही गूगल प्ले स्टोर से ये ऐप हटते हुए नज़र आए। अब मंगलवार को टिकटॉक इंडिया की ओर से बयान जारी किया गया है।

टिकटॉक ने अपने बयान में दावा किया है कि ये अंतरिम आदेश है और सरकार की ओर से उन्हें सफाई देने के लिए बुलाया गया है। बता दें कि सरकार की ओर से तर्क दिया गया है कि ये ऐप देश की सुरक्षा के लिए खतरा हैं और ये डाटा चोरी का काम करती थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here