प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना काल में हर हाल में नियमों का पालन होना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत में गांव का प्रधान हो या फिर देश का प्रधान कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है। उन्होंने कहा, ‘कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ते लड़ते हम अनलॉक-2 में प्रवेश कर रहे हैं। साथ ही हम उस मौसम में भी प्रवेश कर रहे हैं जिसमें सर्दी, जुकाम बढ़ जाते हैं, इसलिए आप सबसे अपील है कि खुद का ख्याल रखें। कोरोना से होने वाली मौत की दर देखें तो दुनियाभर के देशों की तुलना में भारत बेहतर स्थिति में है। यह समय पर लिए गए लॉकडाउन के फैसले के कारण हुआ है।’

उन्होंने कहा कि पहले हम हाथ धोने और सामाजिक दूरी को बनाए रखने, मास्क पहनने को लेकर काफी सतर्क थे लेकिन अब इसमें लापरवाही देखी जा रही है। हमें सतर्कता बरतनी होगी। पीएम मोदी ने कहा कि एक देश के प्रधानमंत्री पर 13000 हजार रुपये का जुर्माना इसलिए लग गया क्योंकि उन्होंने मास्क नहीं पहना था। भारत में गांव का प्रधान हो या फिर देश का प्रधान मंत्री कोई भी नियमों से ऊपर नहीं।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों के लिए पौने दो लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया। बीते 3 महीनों में 20 करोड़ गरीब परिवारों के जनधन खातों में सीधे 31 हजार करोड़ रुपए जमा करवाए गए हैं। इस दौरान 9 करोड़ से अधिक किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, सरकार ने कोरोना से लड़ते हुए भारत में 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को 3 महीने का राशन, यानि परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया है।

पीएम मोदी ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा, मॉनसून के दौरान भारत में सबसे ज्यादा खेती का काम होता है। ऐसे में सरकार ने फैसला किया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का विस्तार होगा और इसके तहत नवंबर तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here