Explainer :दुनिया में 85 करोड़ 30 लाख लोग भुखमरी का शिकार،भूखे लोगों की करीब 23 प्रतिशत आबादी अकेले भारत में रहती है

Spread the love

रवि श्रीवास्तव

 

कोरोना काल अपने साथ महामारी ही नहीं बल्कि खाने का एक बहुत बड़ा संकट भी दुनिया के सामने लेकर आया है। कोरोना काल से पहले के ही आकड़े देखे तो भूखे लोगों की करीब 23 प्रतिशत आबादी अकेले भारत में है, खाने की महत्ता कितनी है इसे ऐसे समझिए कि इस बार दुनिया का सर्वोच्च सम्मान नोबेल शांति पुरस्कार वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को दिया गया…दुनिया एक तरफ वर्ल्ड फूड डे मनाती है लेकिन फूड यानि खाने को लेकर पैदा संकट लगातार बढ़ता जा रहा है

 

Food and Agriculture Organization यानि FAO हमेशा भूखमरी को खत्म करने के लिए जरुरी कदम उठाता रहता है…  दुनिया भर के 150 से अधिक देशों में इसके तहत कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. ये कार्यक्रम उन लोगों के लिए दुनिया भर में जागरूकता पैदा करते हैं जो भूख से पीड़ित हैं और सभी के लिए खाद्य सुरक्षा और पौष्टिक आहार सुनिश्चित करने की आवश्यकता भी है..लेकिन इतने कार्यक्रम चलने पर भी जो मौजूदा संकट है वो ये बताता है कि अभी युद्ध स्तर पर काम करने की जरूरत है क्योंकि

 

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट बताती है

 

दुनियाभर में जहां करीब 50 लाख बच्चे कुपोषण के चलते जान गंवाते हैं,

 

ग्लोबल हंगर इंडेक्स’ के मुताबी रोज़ाना 3000 बच्चे भूख से मर जाते हैं.

 

गरीब देशों में 40 प्रतिशत बच्चे कमजोर शरीर और दिमाग के साथ बड़े होते हैं.

 

दुनिया में 85 करोड़ 30 लाख लोग भुखमरी का शिकार हैं

 

भारत में भूखे लोगों की तादाद लगभग 20 करोड़ से ज्यादा है

 

भूखे लोगों की करीब 23 प्रतिशत आबादी अकेले भारत में है

 

हालांकि वैश्विक स्तर पर भी देखें तो कई और ऐसे देश है जहां खाने की किल्लत भारत से भी ज्यादा है ..लेकिन कृषि प्रधान देश में भी ये हाल अगर है तो उसकी कहीं ना कहीं वजह हम और आप भी है, ऐसा इसलिए क्योंकि

 

FAO की एक रिपोर्ट बताती है

 

रोजाना भारतीय 244 करोड़ रुपए का खाना बर्बाद कर देते हैं

 

पूरे साल में भारतीय करीब 89060 करोड़ रुपये का भोजन बर्बाद कर देते हैं

 

इतनी राशि से 20 करोड़ से कहीं ज्यादा पेट भरे जा सकते हैं

 

औसतन हर दो व्यक्ति के बर्बाद हुए खाने से चार लोग जिंदा रह सकते हैं

 

खाने को बर्बाद करने की आदत को छोड़ना इसलिए भी बहुत जरूरी है क्योंकि खाने की किल्लत से कई बड़े परेशानियों से दुनिया दो चार हो रही है..इन्ही को लेकर ग्लोबल न्यूट्रीशन की एक रिपोर्ट बताती है कि भारत में हर उम्र के लोग खानपान से जुड़ी सम्सयाओं से जूझ रहें हैं. 54.9% नवजात शिशुओं को स्तनपान नहीं मिल पाता, 51.4% महिलाएं एनीमिया से ग्रसित हैं, वहीं 5.1% को मोटापे की दिक्कत है.तो आज से हमे ये समझना चाहिए कि जितना हो सके भूखे का पेट भरे और खाना वेस्ट करते समय ये ख्याल जरूर दिमाग में लाए कि जो खाना आप फेंक रहे हैं..उसमें किसी का पेट भर सकता है.

 

Summary

 

  • खाने की अहमियत समझाने वाली रिपोर्ट

 

  • 50 लाख बच्चे कुपोषण के चलते जान गंवाते हैं

 

  • सोचिए रोज़ाना 3000 बच्चे भूख से मर जाते हैं

 

  • दुनिया में 85 करोड़ 30 लाख लोग भुखमरी का शिकार

 

  • खाना बर्बाद मत कीजिए, किसी को दे ही दीजिए

 

  • भूखे लोगों की करीब 23 प्रतिशत आबादी अकेले भारत में

 

  • साल में 89060 करोड़ रुपये का भोजन बर्बाद करता हैं भारत

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *