आम आदमी पार्टी ने बीजेपी की पोल खोलने के लिए शुरू किया “भाजपा 181” अभियान

Share

 

 

-प्रणय शर्मा

 

 

आम आदमी पार्टी ने आज पार्टी मुख्यालय में हुई एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए विधायक और मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली कि जनता ने बीजेपी के 181 निगम पार्षद जीता कर निगम की सत्ता बीजेपी को सौंपी,लेकिन तीनों निगम में फैले भ्र्ष्टाचार ने बीजेपी की पोल खोलने का फैसला किया है ।

 

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि एमसीडी में फैले भ्रष्टाचार पर सीरिज की शुरूआत कि है । उन्होंने कहा कि इस बार निगम में भारतीय जनता पार्टी के 181 निगम पार्षद जीत कर आए हैं और इन निगम पार्षदों ने भ्रष्टाचार को चरम सीमा तक पहुंचा दिया है। हम सिलसिलेवार तरीके से इन 181 पार्षदों को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी द्वारा किए गए भ्रष्टाचार की एक श्रंखला इसी प्रकार से मीडिया के माध्यम से जनता के सामने रखेंगे। हम लगभग प्रतिदिन एक प्रेस वार्ता के माध्यम से भारतीय जनता पार्टी के द्वारा निगम में किए गए एक-एक भ्रष्टाचार का खुलासा करेंगे और इस श्रंखला को हमने भाजपा 181 का नाम दिया है।

 

उन्होंने कहा कि भाजपा की एमसीडी बार-बार पैसे की कमी का रोना रोती है, लेकिन वो सभी लोगों से प्राॅपर्टी टैक्स नहीं वसूलती है। भाजपा की स्कीम है, ‘निरीक्षण करो, नोटिस दो, डराओ-धमकाओं, लेकिन प्रापॅटी टैक्स न वसूलो।’

 

सौरभ ने आरोप लगाया कि दिल्ली में सबसे महंगी प्रापर्टी होने के बावजूद आज एमसीडी का बुरा हाल हैं, लेकिन भाजपा के पार्षद मालामाल हैं, क्योंकि इसका पैसा पार्षदों की जेब में जाता है। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि 2015 में आम आदमी पार्टी की सरकार बनी थी, तब दिल्ली सरकार की आमदनी 30 हजार करोड़ थी और चार साल बाद दिल्ली सरकार की आमदनी दोगुनी हो गई। वहीं, भाजपा की एमसीडी ने 2015-16 में 3,95,319 व 2016-17 में 4,41,889 लोगों से प्राॅपर्टी टैक्स वसूला, लेकिन 2017-18 में इनकी संख्या घट गई और 4,05,774 लोगों से ही टैक्स वसूला। इसी तरह, एमसीडी का प्राॅपर्टी टैक्स कलेक्शन 2015-16 में 366 करोड़ 2016-17 में 614 हुआ, लेकिन 2017-18 में यह घट कर 553 करोड़ पर आ गया, जबकि सरकारों का टैक्स कलेक्शन बढ़ता है। भाजपा नेता बताएं कि दिल्ली वालों का पैसा कहां जा रहा है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *