वाराणसी छात्र संगठन चुनाव में एबीवीपी को झटका, एनएसयूई और सपा ने की जीत हासिल

student organization election

 

-अक्षत सरोत्री

 

वाराणसी में हुए छात्र संगठन चुनावों (student organization election) के परिणामों में भाजपा समर्थित छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् को तगड़ा झटका लगा है। सबसे बड़ी बात यह है की वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है। यहाँ के महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ छात्र संघ चुनाव में एनएसयूआई की ऐतिहासिक जीत हुई है, इस चुनाव में कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई और समाजवादी पार्टी की छात्र यूनिट के पैनल को बड़ी सफलता मिली है।

 

मुकेश अंबानी के घर के बाहर संदिग्ध गाडी मिलने से मचा हड़कंप

 

इस पार्टी को मिली यह सीटें

 

 

एनएसयूआई ने यहां उपाध्यक्ष, महामंत्री समेत 6 संकाय प्रतिनिधि (student organization election) पदों पर कब्ज़ा किया है। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में कुल 8 संकाय हैं, जिनमें से 6 पर एनएसयूआई ने कब्ज़ा कर लिया है। एनएसयूआई के संदीप पाल उपाध्यक्ष चुने गए हैं, वहीं प्रफुल्ल पांडेय महामंत्री बने हैं। वहीं सपा की छात्र यूनिट की विमलेश यादव अध्यक्ष चुने गए हैं। उपाध्यक्ष संदीप पाल एनएसयूआई के बने हैं। वहीं एनएसयूआई के प्रफुल्ल पांडे महामंत्री बने हैं।

 

 

वाराणसी पर रहती है सबकी नजर

 

वाराणसी पहले से ही भाजपा-आरएसएस का गढ़ रहा (student organization election) है। ऊपर से प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र होने के चलते वाराणसी पर सबकी नजर रहती है। बनारस के हिन्दू धार्मिक स्थल होने के कारण भाजपा को हमेशा उसका फायदा मिलता रहा है। लेकिन आरएसएस और भाजपा की के समर्थित संगठन यानी अखिल भारतीय विद्या परिषद का बनारस में एक भी सीट न लाना बड़ी बात है। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ छात्र संघ के चारों पैनल में से एक भी सीट विद्यार्थी परिषद्न हीं जीत सकी है।

 

 

पहली बार हुआ ऐसा

 

 

धर्म नगरी पहले से भाजपा (student organization election) का गढ़ रही है लेकिन इन चुनावों में युवाओं की इस भूमिका को देखते हुए कई कयास लगाए जा रहे हैं। आने वाले समय में इस हार का मतलब जनता कुछ भी समझ सकती जिसके लिए हर तरह से भाजपा को आत्ममंथन करके चलना होगा। और हर कदम उत्तर प्रदेश में चुनावों को देखते हुए रखना होगा।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *