2020 में सबसे मजबूत हुआ अडानी ग्रुप, 2.1 लाख करोड़ रुपये बढ़ा व्यापार

Share

 

-अक्षत सरोत्री

 

यूँ तो भारत में सबसे ज्यादा अम्बानी ग्रुप को अमीर माना जाता है। लेकिन इस समय गुजरात (Gujrat) से निकल कर अडानी (adaani) ग्रुप भारत में अपना विस्तार फैला रहा है। पिछले कुछ समय से यह ग्रुप काफी मजबूत (strong) हुआ है। इस साल गौतम अडाणी (Goutam Adani) की निजी संपत्ति उनके समकालीन उद्योगपतियों की तुलना में सबसे तेज गति से बढ़ी है। अडाणी की संपत्ति (Property) 2020 में 19.4 अरब डॉलर (Dollar) से बढ़ कर 30 अरब डॉलर तक पहुंच गई है। जनवरी से लेकर अब तक उनकी छह लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 27 अरब डॉलर यानी 2.1 लाख करोड़ रुपये बढ़ गया।

 

स्टीव वामर, लेरी पेज और बिल गेट्स उनसे पीछे हैं अडानी से

 

अडानी वेल्थ क्रिएटर की लिस्ट में नौवें पोजीशन पर पहुंच गए हैं। स्टीव वामर, लेरी पेज और बिल गेट्स उनसे पीछे हैं। अडानी ग्रीन, अडानी इंटरप्राइजेज, अडानी गैस और अडानी ट्रांसमिशन के शेयरों के दाम में तेज बढ़त की वजह से गौतम अडाणी की संपत्ति में यह भारी इजाफा हुआ है। इस साल अडानी ग्रीन एनर्जी के शेयरों में 551 फीसदी की बढ़त दर्ज हुई है। जबकि अडानी गैस और अडानी एंटरप्राइजेज के शेयरों के दाम क्रमश: 103 और 85 फीसदी बढ़े हैं। इसी तरह अडानी ट्रांसमिशन और अडानी पोर्ट्स के शेयरों में 38 और 4 फीसदी की इजाफा हुआ है।

 

अडाणी पावर के दामों में 38 फीसदी की गिरावट आई है

 

हालांकि इस दौरान अडाणी पावर के दामों में 38 फीसदी की गिरावट आई है। लेकिन यह दिलचस्प है कि अडानी की कंपनियों के शेयरों में भारी उछाल के बावजूद म्यूचुअल फंड्स ने इनमें ज्यादा रुचि नहीं ली है। कुछ म्यूचुअल फंड्स की अडानी पोर्ट्स में 4 फीसदी हिस्सेदारी है तो अडानी एंटरप्राइजेज में 1 फीसदी। अडानी की बाकी कंपनियों ने म्यूचुअल फंडों ने पैसा नहीं लगाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *