ज्ञानवापी श्रंगार गौरी मामले में फैसले के बाद पुलिस ने अयोध्या में फ्लैग मार्च निकाला

ज्ञानवापी
ज्ञानवापी

ज्ञानवापी: ज्ञानवापी श्रंगार गौरी विवाद मामले में फैसले के बाद पुलिस ने अयोध्या में फ्लैग मार्च निकाला।

CO डॉ राजेश तिवारी ने कहा, “लोगों को ये संदेश देना चाहते हैं कि आपसी सौहार्द बनाए रखें और शांति व्यवस्था में

पुलिस का सहयोग करें।”

पुलिस आयुक्त A सतीश गणेश ने कहा कि वाराणसी आयुक्तालय में injunction जारी कर दी गई है और अधिकारियों

को अपने-अपने क्षेत्रों में धार्मिक नेताओं से बातचीत करने को कहा गया है ताकि शांति बनी रहे

उन्होंने कहा कि कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरे शहर को सेक्टरों में बांटा गया है,

जिन्हें जरूरत के मुताबिक पुलिस बल आवंटित किया गया है

उन्होंने कहा कि संवेदनशील इलाकों में फ्लैग मार्च और पैदल मार्च करने के भी निर्देश जारी किए गए हैं

जिले के सीमावर्ती इलाकों, होटलों और गेस्ट हाउसों में चेकिंग तेज कर दी गई है, वहीं सोशल मीडिया पर

भी नजर रखी जा रही है

पांच महिलाओं ने याचिका दायर कर हिंदू देवी-देवताओं की दैनिक पूजा की अनुमति मांगी थी

जिनकी मूर्तियां ज्ञानवापी मस्जिद की बाहरी दीवार पर स्थित हैं।

अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद समिति ने कहा है कि ज्ञानवापी मस्जिद एक वक्फ संपत्ति है और उसने याचिका की

सुनवाई पर सवाल उठाया है।

ALSO READ: हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मस्जिद विवाद में वाराणसी की अदालत के फैसले का जश्न मनाया

हिंदू पक्ष के वकील मदन मोहन यादव ने कहा था कि मंदिर को तोड़कर मस्जिद का निर्माण किया गया था।

शीर्ष अदालत के आदेश के बाद जिला अदालत इस मामले की सुनवाई कर रही है।

इससे पहले, एक निचली अदालत ने परिसर के वीडियोग्राफी सर्वेक्षण का आदेश दिया था।

16 मई को सर्वे का काम पूरा हुआ और 19 मई को कोर्ट में रिपोर्ट पेश की गई

हिंदू पक्ष ने निचली अदालत में दावा किया था कि ज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी परिसर के वीडियोग्राफी सर्वेक्षण

के दौरान एक शिवलिंग मिला था लेकिन मुस्लिम पक्ष ने इसका विरोध किया था।

– कशिश राजपूत