एयर स्ट्राइक: भारतीय वायुसेना ने आज ही के दिन की थी पाकिस्तान पर बमवर्षा

Air Strike

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

आज का दिन भारतीय सेना और भारतीय वायु सेना (Air Strike) के लिए काफी ऐतिहासिक है। आज ही के दिन भारतीय वायु सेना ने पुलवामा में शहीद हुए 44 जवानों की शहादत का बदला लिया था। 26 फरवरी 2019 को भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक करके पाकिस्तान के कई आतंकी लांचपैड तबाह कर दिए थे और पाकिस्तान को इसकी भनक भी नहीं लगी थी।

 

पश्चिम बंगाल और केरल में अलकायदा आतंकी मॉड्यूल का एनआईए ने किया खुलासा

 

 

14 फरवरी को भारत के सीने पर पाकिस्तान ने दिया था जख्म

 

 

14 फरवरी को जम्मू श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग (Air Strike) पर सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था। सामान्य दिन की तरह ही उस दिन भी सीआरपीएफ के वाहनों का काफिला अपनी धुन में जा रहा था। तभी एक कार ने सड़क की दूसरी तरफ से आकर इस काफिले के साथ चल रहे वाहन में टक्‍कर मार दी। इसके साथ ही एक जबरदस्‍त धमाका हुआ। यह आत्मघाती हमला इतना बड़ा था कि मौके पर ही सीआरपीएफ के करीब 42 जवान शहीद हो गए। पुलवामा आतंकी हमले से पूरे देश में रोष पैदा हो गया।

 

वायुसेना ने लांच किया था ऑप्रेशन

 

 

हर कोई आतंकियों से इसका बदला लेना (Air Strike) चाहता था। सरकार ने भी पुलवामा के शहीदों की शहादत का बदला लेने के लिए 12 दिन बाद 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित आतंकी कैंप पर हमला कर दिया। पुलवामा हमले का बदला लेने के लिए सरकार ने भारतीय वायुसेना को चुना। भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को तड़के बालाकोट में आसमान से बमवर्षा शुरू कर दी। भारतीय वायुसेना के इस एयर स्ट्राइक में जैश के न सिर्फ आतंकी ठिकाने तबाह हुए, बल्कि करीब 250 से अधिक आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया।

 

डेढ़ मिनट पूरा किया था मिशन

 

 

भारतीय वायु सेना की तरफ से पाकिस्तान स्थित (Air Strike) बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविर पर ‘मिशन’ को सिर्फ डेढ़ मिनट के भीतर अंजाम दिया गया था और इस ऑपरेशन के लिए जिस तरह की सीक्रेसी रखी गई थी उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसे अंजाम देने वाले पायलट के परिवार के सदस्यों को भी इस बारे में कुछ नहीं मालूम था। इस तरह के भारतीय वायुसेना के हमले में पहली बार इस्तेमाल किए गए मिराज-2000 लड़ाकू विमानों के एक पालयट ने बताया था कि “यह 90 सेकेंड में पूरा हो गया था।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *