BASANT PANCHMI: बसंत पंचमी पर भूलकर भी ना करें ये काम

BASANT PANCHMI

 

-नीलम रावत

 

16 फरवरी को बसंत पंचमी (BASANT PANCHMI) का पर्व मनाया जाने वाला है। इस दिन मां सरस्वती की अराधना की जाती है। ज्ञान की देवी मां सरस्वती इस खास दिन साक्षात रुप से भक्तों पर अपनी कृपा बरसाती है। बसंत पंचमी के दिन शादी, गृह प्रवेश जैसे मंगल कार्य करना शुभ माना जाता है। हालांकि, मां सरस्वती की पूजा के इस शुभ दिन पर कुछ जरूरी बातों का खास ध्यान रखना भी अनिवार्य होता है, जिसे अक्सर लोग अनदेखा कर जाते हैं।

 

 

इन बातों का रखें ध्यान

 

बसंत पंचमी (BASANT PANCHMI) के दिन बिना स्नान के पूजा बिलकुल ना करें

 

इस दिन गहरे रंग के वस्त्र भी ना पहने

 

बसंत पंचमी के दिन भूल से भी पेड़-पौधे ना काटे

 

किसान आंदोलन की लड़ाई ट्वीट पर आई, अब महाराष्ट्र सरकार करेगी कार्रवाई

 

बसंत पंचमी (BASANT PANCHMI) के दिन भगवान ब्रह्मा ने मां सरस्वती की रचना की थी। ब्रह्मा जी ने एक ऐसी देवी की संरचना की, जिनके चार हाथ थे। एक हाथ में वीणा, दूसरे हाथ में पुस्तक, तीसरे हाथ में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। ब्रह्मा जी ने मां सरस्वती को वीणा बजाने के लिए कहा, जिसके बाद संसार की सभी चीजों में स्वर आ गया। यही कारण है कि उन्होंने सरस्वती मां को वाणी की देवी नाम दिया। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि-विधान से पूजा की जाती है। पूजा के दौरान मां सरस्वती को कुछ खास चीजों का भोज लगाने से बुद्धि के वरदान की प्राप्ति होती है।

 

इन चीजों का करें दान

 

बसंत पंचमी (BASANT PANCHMI) पर पीले रंग का महत्व होता है

 

इस दिन मां सरस्वती को पीले रंग के वस्त्र और फूल दान करें

 

पीले रंग की मिठाई का भोग भी मां को जरूर लगाएं

 

मां सरस्वती की पूजा करते वक्त वहां पर कलम, कॉपी, किताबें, संगीत से जुड़े वाद्य यंत्र आदि जरूर रखें

 

ऐसा करन से बुद्धि और स्मरण शक्ति बढ़ती है

 

इस दिन पुस्तक और कलम का दान करना भी शुभ माना जाता है

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *