गुजरात निकाय चुनाव में भाजपा का रुतबा कायम, 6 निगमों में कब्जे की और अग्रसर

Gujarat

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

एक तरफ कांग्रेस अपने दिन प्रतिदिन गढ़ों से हाथ धो रही है। दूसरी तरफ बीजेपी अपने कई गढ़ों में अपना रूतबा कायम रखे हुए है। आज गुजरात (Gujarat) के नगर निगम के परिणाम आ रहे हैं जिसमें भाजपा ने अपना रूतबा कायम किया हुआ है। गुजरात में स्थानीय निकाय चुनाव के वोटों की गिनती जारी है। छह बड़े शहरों में नगर निगम चुनाव की भी काउंटिंग हो रही है।

 

अब अभिषेक की पत्नी रुजिरा की नागरिकता पर उठे सवाल, CBI ने लिखा गृह मंत्रालय को पत्र

 

144 वॉर्डों की 576 सीटों के लिए 21 फरवरी को हुआ था मतदान

 

 

यहां कुल 144 वॉर्डों की 576 सीटों के लिए 21 फरवरी को मतदान हुआ था। बीजेपी (Gujarat) ने इन सभी नगर निगमों में भारी बढ़त बनाई है। वहीं कांग्रेस को नतीजों से बड़ा झटका लगता दिख रहा है। गुजरात नगर निकाय चुनाव में बीजेपी बड़ी जीत की ओर बढ़ रही है। अहमदाबाद में बीजेपी ने कांग्रेस को बहुत पीछे छोड़ दिया है। यहां बीजेपी तीन चौथाई बहुमत के करीब दिख रही है।

 

रुझानों में भाजपा बानी बाहुबली

 

 

रुझान अगर नतीजों में बदलते हैं तो बाकी पांच (Gujarat) नगर निगमों में भी बीजेपी कांग्रेस को मात देती नजर आ रही है। बीजेपी ने सूरत, वडोदरा, राजकोट, भावनगर और जामगनगर नगर निगम में कांग्रेस को शिकस्त दी है। रुझानों में वह इन पांचों नगर निगमों में काफी आगे चल रही है। इस चुनाव में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी और असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम ने भी किस्मत आजमाई है।

 

आम आदमी पार्टी चल रही है 18 सीटों पर आगे

 

रुझानों के अनुसार, (Gujarat) आम आदमी पार्टी 18 सीटों पर आगे चल रही है। “आप” की सारी बढ़त सूरत नगर‍ निगम में सामने आ रही है। इसके अलावा अहमदाबाद, वडोदरा, जामनगर, भावनगर और राजकोट में पार्टी का कोई उम्‍मीदवार अभी आगे नहीं चल रहा है। ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम कुल 2 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। ये दोनों सीटें अहमदाबाद नगर निगम की हैं।

 

अहमदाबाद में सबसे कम हुई थी वोटिंग

 

 

अहमदाबाद (Gujarat) में सबसे कम 38.73 फीसदी वोटिंग हुई थी। वहीं सबसे अधिक 49.86 फीसदी वोट जामनगर में पड़े। इसी तरह, राजकोट में 47.27 फीसदी, भावनगर में 43.66 फीसदी, सूरत में 43.52 फीसदी और वडोदरा में 43.47 फीसदी मतदाताओं ने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। बीजेपी का पहले भी इन सभी नगर निगमों पर कब्जा था।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *