सुशांत की लड़ाई, अब कंगना बनाम उद्दव सरकार पर आई, जानिए कंगना और शिवसेना के बीच कैसे छिड़ी वॉर, कहां से शुरू हुई कहां तक पहुंची ?

Spread the love

रवि श्रीवाास्तव

”किसी के बाप का नहीं है महाराष्ट्र, महाराष्ट्र उसी का है जिसने मराठी गौरव को प्रतिष्ठित किया है। और मैं डंके की चोट पे कहती हूँ हॉ मैं मराठा हूँ ,उखाड़ो मेरा क्या उखाड़ोगे?”-कंगना रनौत

सुशांत सिंह राजपूत के लिए शुरू लड़ाई अब राजनीति पर आ गई है, मालमे में अभिनेत्री कंगना रनौत ने एक बार फिर अपने बयानों के जरिए तहलका मचा दिया है, अभिनेत्री कंगना रनौत और शिवसेना नेताओँ के बीच चल रहे मनमुटाव के बीच कंगना के ये बयान बेहद तीखे हैं

कंगना के पहले बयान से ही परेशान होकर संजय राउत, शिवसेना  समेत महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने उन्हें महाराष्ट्र में ना आने की नसीहत दी, महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख का भी कंगना को लेकर बयान सामने आया जिसमें उन्होंने कहा कि कंगना को महाराष्ट्र में रहने का कोई अधिकार नहीं हैं।

कंगना ने शुक्रवार को एक ट्वीट में लिखा, “मैं देख रही हूं कि बहुत से लोग मुझे धमकी दे रहे हैं कि मैं मुंबई वापस नहीं आऊं। इसलिए मैंने अब 9 सितंबर को आने वाले सप्ताह में मुंबई की यात्रा करने का फैसला किया है,” जब मैं मुंबई हवाईअड्डे पर उतरूंगा, किसी के बाप में  हिम्मत है तो रोक कर दिखाए।

जानिए कैसे शुरू हुई कंगना बनाम उद्दव सरकर

बयानों में घमासान उस वक्त शुरू हुआ जब संजय राउत ने कंगना रनौत को महाराष्ट्र वापस ना आने की सलाह दे बैठे, दरअसल सुशांत सिंह राजपूत को न्याय दिलाने के लिए कंगना इन दिनों कैपेंन चला रही है जिसकी जद में मुबंई पुलिस है कंगना ने कुछ दिन पहले ट्वीट किया था कि उन्हें माफियाओं से अधिक मुंबई पुलिस से डर लगता है। इसके बाद शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने ट्वीट किया था कि यदि उन्हें मुंबई में डर लगता है तो यहां वापस नहीं आना चाहिए। जिसपर अब कंगना की ओर से जवाब आया था। कंगना ने ट्वीट कर लिखा था- शिवसेना नेता संजय राउत ने मुझे खुली धमकी दी है और कहा है कि मैं मुंबई वापस ना आऊं। पहले मुंबई की सड़कों में आजादी के नारे लगे और अब खुली धमकी मिल रही है। ये मुंबई पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की तरह क्यों लग रहा है?

पीओके से अब तालिबान बन गया महाराष्ट्र ?

वहीं मामले में राजनीति घमासान मचने के बाद उद्धव सरकार एक्टिव मोड में नजर आई है।क्योंकि महाराष्‍ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा, जिन्हें महाराष्ट्र या मुंबई में असुरक्षित महसूस होता है, उन्हें यह राज्य छोड़ देना चाहिए. उन्हें यहां रहने का कोई अधिकार नहीं है. इस पर कंगना ने पलटवार करते हुए कहा, ”वह मेरे संवैधानिक अधिकारों को छीनने का प्रयास कर रहे हैं, एक ही दिन में यह पीओके से तालिबान बन गया, कुल मिलाकर कहें तो कंगना Vs शिनसेना हो गई है ..इंतजार अब उस वक्त का होगा जब कंगना दोबारा महाराष्ट्र की धरती पर कदम रखेगी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *