लद्दाख घटना में बस चालक के खिलाफ IPC की धारा 279,337 के तहत मामला दर्ज

लद्दाख घटना
लद्दाख घटना

लद्दाख घटना: लद्दाख के तुरतुक सेक्टर में शुक्रवार को एक वाहन दुर्घटना में शहीद हुए

जवानों के मामले में बड़ी कार्रवाई की गई है |

बस के श्योक नदी में गिरने के मामले में चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है

घायल जवानों का स्वास्थ्य अपडेट भी जारी किया गया है।

भारतीय सेना की पश्चिमी कमान ने कहा कि लद्दाख के तुरतुक सेक्टर में शुक्रवार को सड़क से

फिसलकर श्योक नदी में गिरने से घायल हुए 19 जवानों की हालत स्थिर है।

हादसे में सात जवानों की मौत हो गई।Major Accident In Ladakh: लद्दाख दुर्घटना में जवानों के शहीद होने पर पूरा देश गमगीन, राष्ट्रपति कोविन्‍द, पीएम मोदी सहित अन्य ने जताया दुख - President Kovind, PM ...

also read: लापता नेपाल विमान में 13 नेपाली यात्री और तीन सदस्यीय नेपाली चालक दल थे सवार

पश्चिमी कमान के मुताबिक, परतापुर के पास बस दुर्घटना में घायल हुए पश्चिमी कमान के 19 जवानों को

चंडीगढ़ के ग्रीन कॉरिडोर से एयरलिफ्ट कर इलाज के लिए कमांड अस्पताल ले जाया गया

तत्काल सर्जिकल प्रक्रियाएं की गईं और सभी वर्तमान में स्थिर हैं।

हादसा सुबह नौ बजे हुआ। 26 जवान निजी किराए के वाहन से परतापुर स्थित ट्रांजिट कैंप से यात्रा कर रहे थे।Shyok River Ladakh Accident: लद्दाख के तुरतुक सेक्टर में बड़ा हादसा, 26 सैनिकों को ले जा रहा वाहन श्योक नदी में गिरा, 7 जवान शहीद, 19 घायल | TV9 Bharatvarsh

also read: PM मोदी कल कोविड प्रभावित बच्चों के लिए PM CARES के तहत लाभ जारी करेंगे

नुब्रा के थाना प्रभारी इंस्पेक्टर स्टेनजिन दोरजे ने कहा कि प्रथम दृष्टया यह चालक की ओर से

लापरवाही का मामला प्रतीत होता है

चांगमार चालक अहमद शाह ने बस से नियंत्रण खो दिया और यह लगभग 80 से 90 फीट गहरी खाई में लुढ़क गई।

इसके बाद पुलिस, सेना और स्थानीय लोगों ने बचाव अभियान शुरू किया-

सेना के अधिकारी ने बताया कि चालक अहमद शाह के खिलाफ IPC की धारा 279

(तेज या लापरवाही से गाड़ी चलाना), 337 (मानव जीवन को खतरे में डालने वाले कृत्य से चोट पहुंचाना),

और 304-ए (लापरवाही से मौत का कारण) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

नुब्रा थाने में मामला दर्ज किया गया है।

सेना के एक अधिकारी ने कहा कि यह घटना इस बात का सबूत है कि कैसे जवानों ने सुदूर इलाकों में

अपनी ड्यूटी निभाने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी।

– कशिश राजपूत