मुख्यमंत्री द्वारा विभागों के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित लंबित पड़े कार्य मुकम्मल करने के आदेश

CMAMRINDERSINGH
Share

-नवदीप छाबड़ा

 

श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व को समर्पित साल भर चले समागमों की समाप्ति के नज़दीक पहुँचने पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सोमवार को सभी विभागों को श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के ऐतिहासिक मौके की याद में आरंभ किये जा चुके कामों के लम्बित काम मुकम्मल करने के आदेश दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने इस समय के दौरान 65 गाँवों में पूरे हुए 550 प्रोजेक्टों को विशेष तौर पर उजागर करने के भी निर्देश दिए। इस महीने के अंत में तीन दिवसीय समाप्ति समारोह करवाए जाएंगे जो 30 नवंबर को समाप्त होंगे और मुख्यमंत्री पहले सिख गुरू साहिब जी से सम्बन्धित ऐतिहासिक कस्बों पर नतमस्तक होने के लिए सुल्तानपुर लोधी और डेरा बाबा नानक में जाएंगे।

 

प्रोग्राम संबंधी विचार-विमर्श के लिए एक उच्च स्तरीय मीटिंग की अध्यक्षता करते हुये मुख्यमंत्री ने विभिन्न विभागों को कहा कि वह राज्य में कोविड -19 की दूसरी लहर की संभावना के मद्देनजऱ, ज़्यादा भीड़ वाले समागमों से बचने और इसकी बजाय वर्चुअल /डिजिटल समागमों का आयोजन करें। उन्होंने विभागों को साल भर चले समागमों के दौरान 65 गाँवों में मुकम्मल हुए 550 प्रोजेक्टों को दर्शाने के निर्देश भी दिए। इस वर्चुअल मीटिंग में कैबिनेट मंत्री चरनजीत सिंह चन्नी, तृप्त बाजवा और सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने शिरकत की और कैप्टन अमरिन्दर सिंह की तरफ से 550वें प्रकाश पर्व समागमों पर आधारित एक ‘कोफी टेबल’ बुक भी जारी की गई।

 

 

89 पन्नों की इस पुस्तक में सुल्तानपुर लोधी और डेरा बाबा नानक में 5 नवंबर से 12 नवंबर, 2019 तक हुए मुख्य समागमों समेत साल भर के समारोह के सभी विशेष समागमों को दर्शाया गया है। इन समागमों में पवित्र शहरों की नुहार बदलना और इस ऐतिहासिक मौके को समर्पित बुनियादी ढांचा के विकास सम्बन्धी कई अन्य कार्य शामिल हैं। राज्य सरकार की तरफ से शुरू किये गए विभिन्न प्रोजेक्टों को भी इस किताब में उजागर किया गया है। इनमें विशेष विधान सभा सैशन, हेरिटेज वाक, डिजिटल अजायब घर, 76 लाख पौधे लगाना और पवित्र काली बेई की सफ़ाई करना शामिल है।

 

बुक में संगतों के आकर्षण का केंद्र बनी अन्य गतिविधियों /प्रोग्रामों सम्बन्धी भी जानकारी दी गई है जैसे दोनों स्थानों पर बनी विशाल टैंट सिटी, ऐंबूलैंसों के लिए ग्रीन रूट, कीर्तन दरबार, डिजिटल प्रदर्शनी, नानक बगीचियां, ग्लोबल कबड्डी मैच और गणतंत्र दिवस सम्बन्धी झाँकी आदि शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोफी टेबल बुक इस पवित्र मौके की यादों को बरकरार रखेगी और राज्य सरकार की तरफ से 550वें प्रकाश पर्व समारोह मनाने हेतु आरंभ किए गए सभी विशेष भागों के लिए जानकारी का स्रोत साबित होगी। यह बुक सूचना एवं लोग संपर्क विभाग, पंजाब द्वारा तैयार की गई है और इसका प्रकाशन कंट्रोलर प्रिंटिंग और स्टेशनरी पंजाब द्वारा किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *