पैंगोंग झील से कुछ ही दूरी पर चीनी सेना, सैटलाइट तस्‍वीरों से चीनी साजिश का खुलासा

 

-आयुषी प्रधान

 

भारत और चीन के बीच लद्दाख में फिर तनाव बढता नजर आ रहा है.चीन से निपटने के लिए भारत ने 50 हजार जवानों को लदाख भेजा है. वहीं सैटलाइट तस्वीरों से खुलासा हुआ है की चीन ने फिंगर आठ के पीछे ही अपने जवानों को तैनात कर ऱखा है.

 

भारत चीन के बीच बेशक पूर्वी लद्दाख में चल रहा विवाद चर्चा में ना हो. मगर सच्चाई यह है की अभी भी वहां पर तनाव बना हुआ है. भारत ने अपने 50 हजार जवानों को लद्दाख भेजने का फैसला किया है.लेकिन भारत के इस फैसले के पीछे चीन की वो चाल है जो जिसे चीन छुपाना चाहता है. दरअसल चीन ने फिंगर 4 से सैनिकों को वापिस बुला लिया था . और दावा किया था की वो अपने सैनिकों को बेस में ले जा रहा है. मगर चीन ने जो किया उसने हैरान कर दिया.

 

चीन की फिंगर 8 की चाल का खुलासा

 

6 महीन पहले ही भारत औऱ चीन ने मिलकर नार्थ और साउथ पैंगोंग त्सो से सेना वापिस बुलाने का फैसला किया था. चीन ने सेना को तो पीछे किया था मगर उसने फिंगर आठ के नजदीक ही सेना को तैनात कर दिया.ताकी जरुरत पड़ने पर उसे एक्शन मोड में लाया जा सके। चीनी सेना की तैनाती का खुलासा उस वक्त हुआ है जिस वक्त चीन भारतीय सीमा के पास लगातार मिसाइलें और घातक हथियार तैनात कर रहा है.

 

रिपोर्ट के मुताबिक पैंगोंग झील से कुछ ही दूरी पर बड़ी संख्‍या में चीनी सैनिक मौजूद हैं. दरअसल यह तैनाती उस स्थान से कुछ ही दूरी पर है जिसको लेकर दोनो देशों ने गश्त ना लगाने का फैसला किया था. इन तस्‍वीरों से यह भी पता चलता है कि चीन और भारत के बीच सीमा विवाद अभी बना हुआ है। चीन ने अपने इस अड्डे पर रक्षात्‍मक खाई, ईंधन टैंक, सैनिकों के रहने के स्‍थान आदि बना रखे हैं.

 

गोगरा पोस्ट,हॉट स्प्रींग, डेपसांग पर विवाद

 

पूर्वी लद्दाख विवाद को सुलझाने के लिए 11 बार दोनों देशो के कोर कमांडर के मुलाकात हो चुकी है. मगर अभी भी डेपसांग,गोगरा पोस्ट,हॉट स्प्रींग को लेकर विवाद बना हुआ है..और हालात एसे हैं की चीन इस विवाद को सुलझाने में आना कानी कर रहा है। वहीं चीन के तेवरों को देखते हुए भारत ने 50 हजार जवानों को तैनात कर दिया है.भारत-चीन सीमा पर सैनिकों की इस तैनाती को दशक का सबसे बड़ा सैन्य तनाव बताया जा रहा है. पिछले साल जून मे गलवान हिंसा के बाद से दोनों देशों की सेनाएं पूरी तैयारी के साथ सीमा पर डटी हुई हैं.

 

चीन ने गलवान हिंसा के दौरान तैनात सैनिकों की संख्या से 15 हजार ज्यादा जवानों को इस बार तैनात किया हुआ है। भारतीय खुफिया और सैन्य अधिकारियों के अनुसार, चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने पिछले कुछ महीनों में धीरे-धीरे अपनी सेना की उपस्थिति को बढ़ाकर 50 हजार से ज्यादा कर दिया है। लद्दाख में फिर से तनाव बढने के संकेत मिलने लगे हैं..क्योंकी दुनिया चीन के उपर कोरोना को लेकर जांच के लिए दवाब बना रही है और चीन इस जांच से बचने के लिए इस विवाद को फिर भड़का सकता है. इसी काऱण भारत भी पुरी तैयारी के साथ वहां पर डटा हुआ है.

Share