कर्नाटक में कोरोना के 2479 नए केस, खतरे की बजी घंटी तो सरकार अलर्ट

कर्नाटक में कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी

कर्नाटक (Karnataka) में मंगलवार को कोविड-19 के 2,479 नए मामले सामने आने के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 30,13,326 हो गयी. इस दौरान चार और रोगियों की मौत होने से मृतकों (Coronavirus in Karnataka) की तादाद 38,355 पर पहुंच गयी. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने एक बुलेटिन जारी कर यह जानकारी दी. कर्नाटक में एक जनवरी को तीन महीने के अंतराल के बाद संक्रमण के नये मामलों की संख्या एक हजार से अधिक रही थी. इसके बाद दो जनवरी को 1,187 जबकि सोमवार तीन जनवरी को कोरोना वायरस संक्रमण के 1,290 नये मामले सामने आए थे.

राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक, कर्नाटक में बीते 24 घंटे के दौरान 288 रोगी संक्रमण मुक्त भी हुए, जिससे राज्य में इस जानलेवा वायरस के संक्रमण को मात देने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 29,61,410 हो गयी. कर्नाटक में कोविड-19 के एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 13,532 हो गयी है. बेंगलुरू शहरी क्षेत्र में सर्वाधिक 2,053 नये मामले सामने आए और तीन मरीजों की मौत हुई. कर्नाटक में मंगलवार को 95,391 नमूनों की कोविड-19 जांच की गयी. अब तक कुल 5.68 करोड़ नमूनों की जांच की गई है. संक्रमण की दर 2.59 प्रतिशत है जबकि मृत्यु दर 0.16 प्रतिशत बनी हुई है.

यह भी पढ़ें:अतुल केशप को बनाया गया US-इंडिया बिजनेस काउंसिल का अध्यक्ष

कोविड मामलों को संभालने के लिए तैनात किए गए आठ IAS अधिकारी

वहीं, कर्नाटक में बढ़ते कोरोनावायरस के खतरनाक ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) को देखते हुए राज्य सरकार ने बेंगलूरू (Bengaluru) के आठ क्षेत्रों में कोविड स्थिति और ओमिक्रॉन संबंधित मामलों को संभालने और प्रतिबंधित करने के लिए आठ IAS अधिकारियों को तैनात किया गया है. भारत में दो दिसंबर को ओमिक्रॉन का पहला मामला आया था जब दो लोगों के इस वेरिएंट से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी. ये मामले कर्नाटक में ही सामने आए थे. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोगों से अपील की जा रही है कि वे कोविड नियमों का पालन करें.

यह भी पढ़ें:मुंबई में कोरोना से हाहाकार, एक दिन में करीब 11 हजार मामले आए, दो की मौत

तीसरी लहर का एपिसेंटर होगा बेंगलूरू

दूसरी ओर, कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ के सुधाकर ने मंगलवार को बेंगलूरू में कोविड​​-19 मामलों में खतरनाक वृद्धि के बीच शहर के लिए विशेष उपायों पर जोर दिया. उन्होंने जोर दिया कि कोविड की तीसरी लहर की आहट आनी शुरू हो गई है. सुधाकर ने अनुमान लगाया कि बेंगलूरू वर्तमान में आने वाली महामारी का केंद्र हो सकता है. स्वास्थ्य मंत्री ने संवाददाताओं से कहा, बेंगलूरू में विशेष कदम उठाना बहुत जरूरी हो गया है. बेंगलूरू एक एपिसेंटर बनकर उभर सकता है. यह पहली लहर और दूसरी लहर में एक एपिसेंटर था. तीसरी लहर के दौरान भी यह एपिसेंटर होगा.

यह भी पढ़ें:बिहार में नाइट कर्फ्यू का एलान, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में CM ने लिया फैसला