सीएम के केजरीवाल ने नए कॉलेजों की स्थापना के लिए DU अधिनियम में संशोधन की मांग की

Spread the love

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने आज मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि दिल्ली में और अधिक कॉलेज तथा विश्वविद्यालय खोलने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ष दिल्ली में कम से कम 2.5 लाख छात्र कक्षा 12वीं की बोर्ड की परीक्षा पास करते हैं, जिनमें से केवल 1.25 लाख छात्रों को शहर के कॉलेजों में दाखिला मिलता है। मैंने केन्द्रीय शिक्षा मंत्री को पत्र लिख कर दिल्ली विश्वविद्यालय अधिनियम में सुधार की मांग की है, ताकि और कॉलेज स्थापित किए जा सकें। दिल्ली यूनिवर्सिटी एक्ट में बदलाव की मांग को लेकर केजरीवाल ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को चिट्ठी लिखी है.

 

 

केजरीवाल ने कहा कि 1922 में अंग्रेजो के बनाए दिल्ली यूनिवर्सिटी एक्ट के तहत दिल्ली में जो भी कॉलेज खुलेगा वो सिर्फ डीयू से एफिलिएट हो सकता है. मैंने केंद्रीय शिक्षा मंत्री को पत्र लिखकर इस कानून के सैक्शन 5 (2) को डिलीट करने की मांग की है। ताकि नए कॉलेज, यूनिवर्सिटी खुल सके. उन्होंने कहा, ‘दिल्ली के अंदर कॉलेज और यूनिवर्सिटी की बहुत ज्यादा कमी हो गई है. सीट कम हैं और बच्चों की संख्या ज्यादा हो गई है. जिस तेजी के साथ बच्चों की संख्या बढ़ रही है, उस तेजी के साथ कॉलेज-यूनिवर्सिटी बढ़ने चाहिए थे.

उन्होंने कहा कि हर साल दिल्ली में तकरीबन 2.5 लाख बच्चे बारवी पास करते हैं लेकिन केवल 1.5 लाख बच्चे ही एडमिशन ले पाते हैं. दिल्ली में बहुत सारे कॉलेज की जरुरत है. दिल्ली सरकार कॉलेज खोलने के लिए तैयार है, लेकिन 1922 में बने एक एक्ट के कारण कानूनी अड़चन आ रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *