MCD के सफाई कर्मचारियों के वेतन ना मिलने पर हड़ताल करने के मामले पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने दी चेतावनी

 

– कशिश राजपूत

 

 

दिल्ली नगर निगम (MCD) के सफाई कर्मचारियों के वेतन ना मिलने पर हड़ताल करने और सड़कों पर कचरा फेंकने के मामले पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) के जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस रेखा पल्ली की बेंच ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि इस तरह की हरकतों को बख्शा नहीं जाएगा और दोषी यूनियन नेताओं और उनके सदस्यों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी |

 

कोर्ट ने कहा कि क्योंकि अब यूनियन के अध्यक्ष और सचिव कोर्ट में पेश हुए हैं इसलिए कोर्ट उनके खिलाफ पहले जारी किए गए जमानती वारंट को जारी नहीं रखना चाहती |

 

 

किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं : कोर्ट

 

कोर्ट ने याचिका का निपटारा करते हुए कहा कि अगर कोई शिकायत है और कोई भी आपका अधिकार नहीं छीन रहा है तो आपको इसे उठाने का अधिकार है, लेकिन आप उपद्रव और ‘गुंडागर्दी’ नहीं कर सकते |  किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है. बता दें कि दिल्ली नगर निगम के कर्मचारियों के वेतन का भुगतान न होने से संबंधित क‌ई याचिकाएं कोर्ट के समक्ष लंबित है, कोर्ट के आदेश के बाद ही कर्मचारियों को दिसंबर, 2020 तक उनके बकाया वेतन का भुगतान किया गया था |

 

 

कोर्ट ने निर्देश दिया था कि कर्मचारी सड़कों पर कचरा ना फैलाएं और ना ही एमसीडी के काम में रुकावट डालें | इस तरह की गतिविधियों में लगे हुए पाए गए किसी भी सफाई कर्मचारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. कोर्ट ने पिछली सुनवाई पर यूनियन के प्रेसिडेंट और सेक्रेटरी के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया था |

 

 

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *