बढ़ते कोरोना मामलों के बावजूद प्रवासी मजदूर नहीं करेंगे पलायन – कहां मिल रही है सभी सुविधाएं

 

हरियाणा में बढ़ते करोना के मामलों और भविष्य में लॉकडउन लगने की स्थिति के बावजूद फरीदाबाद मे बिहार – यूपी और अन्य प्रदेशों के प्रवासी मजदूर और कामगार पलायन करने से साफ इंकार कर रहे हैं । औद्योगिक नगरी में काम करने वाले प्रवासी मजदूरों का साफ कहना है की फैक्ट्री मालिकों द्वारा जहां उनका वैक्सीनेशन करवा दिया गया है वही उनके रहने और खाने-पीने के तमाम इंतजामों की सुविधा उन्हें उपलब्ध करवाई गई है जिसके चलते वह किसी भी सूरत में पलायन नहीं करेंगे कई मजदूरों ने प्रदेश सरकार के प्रयासों की सराहना की है वही फैक्ट्री मालिकों का भी कहना है कि प्रवासी मजदूर काम करना चाहते हैं और घर लौटना नहीं चाहते क्योंकि उन्हें तमाम सुविधाएं यहां उपलब्ध करवाई गई हैं और सभी प्रवासी मजदूरों का वैक्सीनेशन भी सरकार की तरफ से कर दिया गया है ।

 

फरीदाबाद के वजीरपुर में स्थित फर्नीचर बनाने वाली ग्रैंड इंटीरियर कंपनी के मालिक अनिल अरोड़ा ने बताया कि उनके यहां यूपी बिहार के प्रवासी काम करते हैं और और सभी का वैक्सीनेशन हो चुका है । उन्होंने कहा कि तमाम प्रवासी मजदूर मेहनती हैं और कोई भी अब वापस नहीं जाना चाहता सभी काम करना चाहते हैं वही कंपनी की तरफ से भी इन्हें तमाम सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई हैं जिसके चलते किसी भी कठिन परिस्थिति में मजदूर और कामगार पलायन करने को तैयार नहीं है और मिल रही सुविधाओं के चलते यही रह कर काम करना चाहते हैं ।

 

वही बल्लभगढ़ में पैरामाउंट ग्राफिक कंपनी के संचालक पंकज गोविल ने बताया की अलग-अलग क्षेत्रों में उनकी तीन फैक्ट्री चल रही हैं जिसमें रोलर बनाने का काम होता है और उनके यहां यूपी बिहार के कामगार काम करते हैं उन्होंने कहा कि उनके यहां पलायन करने की कोई स्थिति नहीं है और पिछले लॉकडाउन में भी उन्होंने मजदूरों के लिए तमाम सुविधाएं उपलब्ध करवाई थी तब भी किसी ने पलायन नहीं किया था आज स्थिति यह है कि सरकार भी खूब मदद कर रही है और हम सभी मजदूरों का ख्याल रख रहे हैं और कोविड नियमों की पालना भी कर रहे हैं ।

 

जब फैक्ट्रियों और वर्कशॉप में काम करने वाले यूपी बिहार के प्रवासी मजदूरों और कामगारों से बात की गई तो उन्होंने साफ किया की वह इस बार किसी भी सूरत में पलायन नहीं करेंगे क्योंकि उन्हें वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी हैं तथा सरकार के साथ-साथ फैक्ट्री मालिक भी उन्हें तमाम सुविधाएं उपलब्ध करवा रहे हैं कई मजदूर ने बताया कि वह पिछले लॉकडाउन में भी नहीं गए थे । उन्होंने बताया कि यहां उन्हें फैक्ट्री मालिक द्वारा रहने खाने और पीने की कोई दिक्कत नहीं है और वह काम करना चाहते हैं।

 

ये भी पढ़े : दिल्ली में सभी प्राइवेट दफ्तर बंद, DDMA ने दिया WFH का आदेश