यासीन मालिक की पत्नी का विवादित बयान- पाकिस्तान भंग करे शिमला समझौता

Yasin Malik's wife

 

-अक्षत सरोत्री

 

कश्मीर में अलगाववादी नेताओं के बयान भारत के खिलाफ आना कोई नई बात नहीं है। यासीन मालिक कई सालों से भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल रहे हैं। उनके ऊपर कई ऐसे मामले हैं जिसमें वो ऐसे बयान देते हुए पाए गए हैं जो भारत विरोधी हैं। अब इसी बीच यासीन मालिक की पत्नी (Yasin Malik’s wife) ने भारत के खिलाफ विवादित बयान आया है जिसमें मालिक की पत्नी ने भारत से पाकिस्तान को संबंध खत्म करने की बात कही है।

 

किसानों को आतंकी बता सरकार आंदोलन को भटका रही है-प्रियंका गांधी

 

 

यह बोली मुशान हुसैन मालिक

 

 

मुशाल हुसैन मलिक (Yasin Malik’s wife) ने पाकिस्तान सरकार से भारत के साथ सभी राजनयिक संबंधों को खत्म करने का आह्वान किया है। मुशाल ने कहा कि कश्मीर के लिए एकजुटता दिखाते हुए पाकिस्‍तान शिमला समझौते को भी भंग करे। मुशाल मलिक ने लाहौर में धार्मिक राजनीतिक पार्टी जमात-ए-इस्लामी के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन के दौरान यह बात कही। इस दौरान मुशाल ने पाकिस्तान से घाटी में भारतीय सेना द्वारा कश्मीरियों के कथित नरसंहार को उजागर करने की अपील भी की।

 

अमीरुल अजीम ने भी दिया विवादित बयान

 

 

जमात-ए-इस्लामी के महासचिव अमीरुल अजीम ने कहा, ‘सरकार राष्ट्र की अपेक्षाओं को पूरा करने में विफल रही है।’ अजीम ने कहा कि सरकार का कश्मीर के प्रति दिखावटी प्रेम है। उन्होंने कहा, ‘सरकार को अवैध रूप से हिरासत में लिए गए कश्मीरी नेताओं यासीन मलिक, सैयद अली शाह गिलानी, आसिया अंद्राबी और अन्य की अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय और अन्य विश्व मंचों पर रिहाई सुनिश्चित करने का मामला उठाना चाहिए।’ अजीम ने अंतर्राष्ट्रीय अधिकार समूहों को भी यासीन मलिक और उनकी बेटी के साथ बैठक करने की मांग की।

 

 

मुशाल ने कहा, ‘कश्मीर पाकिस्तान सरकार का एकमात्र महत्वपूर्ण मुद्दा

 

मुशाल ने कहा, ‘कश्मीर दक्षिण एशिया और पाकिस्तान सरकार का एकमात्र महत्वपूर्ण मुद्दा है। राजनीतिक दलों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर (Yasin Malik’s wife) पर मानवता के खिलाफ भारतीय अपराधों को उजागर करने के लिए अपनी ऊर्जा का उपयोग करना चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान की ओर से एक निरंतर राष्ट्रीय कश्मीर नीति अपनाने की सख्त जरूरत है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *