चीन के वुहान से फैले खतरनाक कोरोनावायरस (Coronavirus) ने दुनिया में अपना कहर बनाया हुआ है। इस खतरनाक वायरस की चपेट में रोजाना भारी संख्या में लोग आ रहे है, जिससे इसकी संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। कोरोना वायरस के चलते अभी तक 1,620 लोगों की मौत हो चुकी है तो वहीं 67,185 से ज्यादा लोग इसकी चपेट में आ गए है। पिछले एक दिन में 100 से ज्यादा लोगों को इसके चलते अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इसके साथ ही इस वायरस की चपेट में करीब 2000 से ज्यादा नए लोगों की पुष्टि हुई है।

चीन द्वारा कोरोना वायरस के संदिग्धों को इसकी चपेट से बाहर निकालने के लिए उच्चस्तरीय इलाज किया जा रहा है। इसी कड़ी में करीब 8,457 लोगों को इस खतरनाक वायरस से बाहर निकाल लिया गया है और साथ ही उन सभी को अस्पतालों से छुट्टी भी दे दी गई है।

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इस बीमारी से निपटने के लिए कृत्रिम मेधा और क्लाउड कम्प्युटिंग जैसी डिजिटल तकनीकों की मदद लिए जाने की अपील की है। वुहान के अस्पतालों में सामग्रियां पहुंचाने और अन्य कार्यों में मदद के लिए चीनी टेक्नोलोजी के रोबोटों को तैनात किया गया हैं।

खतरनाक वायरस के असर को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुख्य ट्रेडोस अदनोम ने कहा था कि न्यू कोरोना वायरस की चपेट में निमोनिया को WHO ने कोविद-9 का नाम दिया है। ट्रेडोस ने इस बात की आशा जताई है कि वह अलग-अलग पक्ष से संबंधित मुद्दों पर सहमति हासिल करेंगे और योजना बनाएंगे। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन दुनिया भर के 400 से अधिक वैज्ञानिकों के साथ विचार-विमर्श कर रहे है।

चीन से बाहर कदम रख चुके कोरोनावायरस से जुड़े कई ऐसे देश है जहां से खतरनाक वायरस से जुड़े मामले सामने आ रहे है। बात करें भारत की तो देश में इसको लेकर बड़ी गंभीरता दिखाई जा रही है जिसके चलते भारत में कोरोनावायरस को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने इस बात की पुष्टि की है कि भारत कोरोनावायरस को लेकर सबसे पहले कदम उठाने वाला देश है।

उन्होनें कहा कि इसका फायदा हमें मिला है, हमने अब तक इससे जुड़े 1756 नमूनों की जांच की है, जिनमें से 1753 नमूने निगेटिव पाए गए हैं। केवल केरल में तीन नमूने पॉजटिव पाए गए हैं, और इन तीन में से भी दो लोगों को ठीक कर दिया गया है और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। और वहीं तीसरे मरीज का ईलाज किया जा रहा है। ये तीनों ही मरीज चीन से भारत आए थे, जिसके बाद जांच कर पता चला की ये कोरोनावायरस के संदिग्ध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here