आईसीसी के इस नियम से भारत को पंहुचा नुकसान

Share

 

-चन्दन भरद्वाज

 

अंतराष्ट्रीय क्रिकेट की देख रेख करने वाली संस्थान (आईसीसी) ने वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप में संशोधन किया है। कोरोना महामारी के कारण आईसीसी ने ऐसा निर्णय लिया है। आईसीसी ने बताया है कि वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुँचने वाली टीमों के अंकों के प्रतिशत के आधार पर निर्णय लिया जाएगा। आईसीसी के निर्णय से निश्चित रूप से भारत को नुकसान पंहुचा है।

 

आईसीसी के प्राप्त अंको के आधार पर जो नई रैंकिंग जारी की है उसमें भारत को नुकसान हुआ है और टीम पहले स्थान से लुढ़क कर दुसरे नंबर पर पहुंच चुकी है। पहले स्थान पर ऑस्ट्रेलिया की टीम इस नई रैंकिंग से आ गयी है। बोर्ड मीटिंग में आईसीसी ने यह निर्णय लिया गया और अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इसकी जानकारी भी दी है।

 

आईसीसी ने जारी की रैंकिंग

 

आईसीसी ने यह रैंकिंग टीमों के मैचों में मिली जीत के अंकों पर प्रतिशत निकाला है। इसके अलावा कोरोना महामारी के कारण जिन दो देशो के बीच पहले से तय सीरीज नहीं हुई उनमें दोनों टीमों को बराबरी के अंक दिए गए है। आईसीसी के इस नियम से ऑस्ट्रेलिया को फयदा हुआ है और भारत को नुकसान पंहुचा है। भारतीय टीम के अभी 4 सीरीज में 360 अंक है और अंक तालिका में टीम पहले नंबर पर थी लेकिन पॉइंट के प्रतिशत के आधार पर अब ऑस्ट्रेलिया की टीम आगे चली गई है। ऑस्ट्रेलिया के 3 सीरीज में 296 अंक है लेकिन इस टीम के 82.2 अंक है और इस आधार पर भारतीय टीम पीछे रह गई।

 

भारतीय टीम के अंकों का प्रतिशत 75 ही निकलता है। हालांकि भारतीय टीम से नीचे इंग्लैंड की टीम है जिसके 60.8 अंक है। भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में अच्छा खेल दिखाना होगा क्योंकि भारत के खराब खेल और न्यूजीलैंड के घरेलू सीरीजों में बेहतर खेल से भारत को नुकसान हो सकता है। सबसे अच्छा मौका ऑस्ट्रेलिया के हाथ लगा है। भारतीय टीम से अंकों में काफी पीछे होने के बाद भी ऑस्ट्रेलिया की टीम को आईसीसी के नए नियमों का फायदा मिल गया। देखना होगा अगले साल वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में कौन सी दो टीमें जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *