Bihar Election Detailed : पहले चरण के मतदान के लिए थमेगा प्रचार, जानिए कहां-कहां डाले जाएंगे वोट, किस-किस के भाग्य का होगा फैसला ?

Share

रवि श्रीवास्तव

 

बिहार में चल रहे सियासी घमासान के बीच आज चुनावी भोंपू पहले प्रचार के लिए बंद हो जाएगा, 28 अक्टूबर को बिहार में पहले चरण के लिए मतदान होना है। करीब 16 जिलों की 71 सीटों पर जनता मैदान में खड़े एक हजार से ज्यादा प्रत्याशियों की किसमत का फैसला करेगी। पहले चरण के लिए प्रचार खत्म होने से पहले सभी पार्टियों ने अपना ऐड़ी चोटी का दम लगा दिया है। प्रचार के आखिरी दिन कई दिग्गज नेताओं की चुनावी रैलियां होनी हैं। बीजेपी चीफ जेपी नड्डा के अलावा सीएम नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव भी चुनावी रैली संबोधित करेंगे।

 

आज होगा रैलियों का रैला

चुनाव प्रचार के आखिरी दिन जहां तेजस्वी यादव पांच रैली को संबोधित करेंगे तो वहीं सीएम नीतीश कुमार की आज तीन रैलियां तय है, इसके साथ ही जेपी नड्डा की आज बिहार में दो रैलियां हैं। चिराग पासवान और रलोसपा प्रमुख उपेंद्र कुश्वाहा के साथ साथ बीजेपी के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री भी बिहार के अलग अलग जिलों में चुनाव प्रचार कर मतदाताओँ से पार्टी के लिए वोट की अपील करेंगे

 

बिहार चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान इसिलए भी बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि मतदान नक्सल प्रभावित इलाकों में भी है, ऐसे में नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।आइए जरा इस चरण के मतदान की कुछ जरूरी बातों पर गौर करें

 

28 अक्टूबर को 71 सीटों पर मतदान होगा

 

पहले चरण में 1066 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होना है

 

पहले फेज में दो करोड़ 14 लाख छह हजार 96 मतदाता करेंगे

 

पहले चरण में पटना जिले की पांच, भागलपुर की दो

 

भभुआ, रोहतास, बक्सर, भोजपुर, औरंगाबाद, नवादा

 

गया, जमुई, बांका, जहानाबाद, अरवल, नवादा व शेखपुरा जिलों में मतदान होगा

 

इस चरण में राज्य सरकार के आठ मंत्रियों की परीक्षा होनी है

 

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हम पार्टी के चीफ जीतन राम मांझी के लिए भी वोट डाले जाएँगे

 

इमामगंज सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी और पूर्व स्पीकर उदय नारायण चौधरी के बीच होगा

 

बाहुबली नेता और मोकामा से राजद प्रत्याशी अनंत सिंह के सियासी दम का भी फैसला होगा

 

अनंत सिंह सबसे अमीर प्रत्याशी हैं, उनके पास 68 करोड़ से अधिक की संपत्ति है

 

लोजपा से इस्तीफा देकर तरारी सीट से निर्दलीय लड़ रहे सुनील पांडेय के लिए भी मतदान होगा

 

इस बार का चुनाव इसलिए भी बेहद महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इससे पहले वाले चुनाव में मुकाबला एनडीए Vs महागठबंधन के बीच था, और उस वक्ता एनडीए के मौजूदा साथी नीतीश कुमार आरजेडी के शाथ मिलकर बीजेपी के सामने खड़े थे, लेकिन इस बार समीकरण दूसरे हैं…इस बार लोकजनशक्ति पार्टी एनडीए का हिस्सा नहीं है। जदयू और भाजपा, छोटे सहयोगी दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। दूसरी तरह मुख्य मुकाबले में लालू यादव की पार्टी आरजेडी है तो कांग्रेस उसकी जूनियर पार्टनर की भूमिका में है। लेकिन पहले चरण में दाव पर नीतीश कुमार की सरकार लगी हैं क्योंकि

 

पहले चरण में राज्य के आठ मंत्रियों की किस्मत दावं पर है

 

पहले चरण में आठ मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है

 

कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार और शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा के लिए वोट डाले जाएँगे

 

शैलेश कुमार, जय कुमार सिंह, संतोष कुमार निराला, रामनारायण मंडल

 

विजय कुमार सिन्हा एवं बृजकिशोर बिंद इस चरण में ही मैदान में हैं

 

इस चरण में 375 प्रत्याशी करोड़पति हैं

 

लगभग हर तीसरा प्रत्याशी करोड़पति है

 

इनमें सबसे ज्यादा 41 में से 39 प्रत्याशी आरजेडी के हैं

 

कुल मिलाकर मुकाबला कांटे के टक्कर का है, पहले चरण के लिए सियासी जोर आजमाइश आज थम जाएगी, जिसके बाद जनता तय करेगी कि आखिर किनके वादों पर एतबार है और किसकों करना विधानसभा के बाहर इंतजार है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *