किसान आंदोलन: मांगें नहीं मान ली जाती तब तक सरकार को चैन से बैठने नहीं देंगे-टिकैत

Farmer Protest

 

-अक्षत सरोत्री

 

किसान आंदोलन (Farmer Protest) लगातार जारी है। दिल्ली हिंसा के बाद से ही दोनों पक्षों में आपसी वार पलटवार चल रहा है। कभी किसान नेता सरकार पर हमला कर रही है तो कभी सरकार उसका जवाब दे रही है। आज भी भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि भगवान हनुमान और महात्मा गांधी भी ‘आंदोलनजीवी’ थे।

 

चीन ही है कोरोना का जन्मदाता देश, डब्ल्यूएचओ ने जुटाए कई तथ्य

 

बोले सरकार करे बातचीत

 

 

उन्होंने कहा कि सरकार को किसानों से बातचीत (Farmer Protest) करनी चाहिए, उन्हें पकड़कर जेल में नहीं डालना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने बीजेपी के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी को लेकर कहा कि वे जब राष्ट्रपति बनने वाले थे तो उन पर अयोध्या का मुकदमा चलवा दिया गया। इससे पहले रविवार को राकेश टिकैत ने कहा कि जब तक किसानों की मांगें नहीं मान ली जाती हैं तब तक सरकार को चैन से बैठने नहीं देंगे। किसान आंदोलन में इस समय जो ताजा हालात हैं उनसे यह लगता है कि दोनों पक्ष अभी तो शांत हैं लेकिन कब माहौल में गर्माहट आ जाये कुछ भी कहा नहीं जा सकता है।

 

अगर किसान नहीं चाहते हैं कृषि कानून को तो सरकार क्यों कर रही है जबरदस्ती-प्रियंका गांधी

 

करनाल जिले की इंद्री अनाज मंडी में पहुंचे थे टिकैत

 

 

करनाल जिले की इंद्री अनाज मंडी में किसानों की ‘महापंचायत’ को संबोधित करते हुए टिकैत ने कहा कि केंद्र के कृषि कानूनों (Farmer Protest) के खिलाफ प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे 40 नेता पूरे देश में घूम-घूम कर समर्थन मांगेंगे। टिकैत ने कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए रविवार को उन्होंने कहा, ‘‘जब तक सरकार हमारे पक्ष में फैसला नहीं करती, समिति से बात नहीं करती और हमारी मांगों पर सहमत नहीं होती, तब तक हम उसे चैन से बैठने नहीं देंगे। ’’ राकेश टिकैत ने एक बार फिर दोहराया कि केंद्र के कृषि कानूनों से ‘‘सार्वजनिक वितरण प्रणाली खत्म हो जाएगी।’’ उन्होंने कहा कि कानून न केवल किसानों को बल्कि छोटे किसानों, दिहाड़ी मजदूरों और अन्य वर्गों को भी प्रभावित करेगा।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *