शंभु बॉर्डर पर किसानों ने बैरिकेट्स को फ्लाईओवर से नीचे फेंका

-आकृति वर्मा

 

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों का विरोध किसानों द्वारा किया जा रहा है। वहीं यह विरोध प्रदर्शन काफी उग्र होता नजर आ रहा है। जी हां केंद्र शासित पंजाब से हजारों की संख्या में किसान हरियाणा बॉर्डर पर जमा है। वहीं पुलिस प्रशासन द्वारा उन्हें रोकने की पूरी तरीके से कोशिश की जा रही है। पुलिस के द्वारा आंसू गैस के गोले, वाटर गन से पानी की बौछारें कर किसानों को रोका जा रहा है। लेकिन किसान है कि रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं।

 

पुलिस प्रशासन द्वारा किसानों को रोकने के लिए बिछाए गए बॉर्डर पर बैरिकेड को तोड़ कर फेंका गया वही बैरिकेड के पास रखे भारी पत्थरों को भी हटा कर पूरे जोरों शोरों से पुलिस प्रशासन की बैरिकेडिंग को पार किया गया। किसान पुलिस द्वारा रोकने के लिए किसी भी कार्रवाई का डटकर मुकाबला करने को तैयार है।

 

 

आप वीडियो में देख सकते है कि किस तरह से पुलिस के द्वारा किसानों की भीड़ को रोकने के लिए आंसु गैस के गोले छोड़ जा रहे है।

 

 

बता दें कि  दिल्ली में 26 व 27 नवंबर को पंजाब के अलावा उत्तराखंड, राजस्थान, हरियाणा, केरल, उत्तर प्रदेश के किसान भी प्रदर्शन और विरोध मार्च करने वाले हैं। बता दें कि बुधवार को हरियाणा कि सरकार अपने ही किसानों को दिल्ली मार्च करने से रोकने में विफल नाकाम साबित हुई। राज्य की सड़कों पर लगाए गए बैरिकेड्स और वाटर कैनन को किनारे करते राज्य के हजारों किसान दिल्ली के नजदीक पहुंच गए। इन लोगों ने रात में करनाल और सोनीपत में डेरा डाला। जिसको बाद आज यानि वीरवार को किसानों दिल्ली कूच के लिए अपना संघर्ष शुरु किया।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.