पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के “अलकायदा” वाले बयान पर मचा हड़कंप

Bengal Governor

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

बंगाल में दिन प्रतदिन ऐसे-ऐसे बयान सामने आ रहे हैं जो राजनितिक गलियारों में हलचल बढ़ा रहे हैं। आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद पश्चिम बंगाल के (Bengal Governor) राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा है कि राज्य में अलकायदा का जाल फैल रहा है। इस पर तृणमूल कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि गवर्नर को चुनाव की ज्यादा फिक्र है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद शनिवार को पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने आगामी विधानसभा चुनाव के आलोक में राज्य में सुरक्षा परिदृश्य को लेकर चिंता प्रकट की।

 

 

पीएम किसान योजना: 1364 करोड़ चला गया गलत खातों में, आरटीआई से हुआ खुलासा

 

 

 

धनखड़ ने राज्य सरकार की व्यवस्था पर उठाए सवाल

 

 

उन्होंने कानून-व्यवस्था बनाये रखने में राज्य प्रशासन की (Bengal Governor) भूमिका पर सवाल उठाये। कोलकाता में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ बैठक के कुछ ही दिन बाद राज्यपाल ने अमित शाह से नयी दिल्ली में मुलाकात की। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मुखर आलोचना करने वाले राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि राज्य व्यापक हिंसा की गिरफ्त में है। मीडिया से उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था की स्थिति और सुरक्षा माहौल खतरे में है।

 

 

ब्लैक आउट होने का ठीकरा शेख रशीद ने भारत के सर पर फोड़ा

 

 

राज्य का प्रशासन की हालत दयनीय हुई

 

 

अलकायदा फैल रहा है। अवैध बम निर्माण अनियंत्रित तरीके से चल रहा है। मैं जानना चाहूंगा कि वह क्या कर रहा है।’ उन्होंने दावा किया, ‘बंगाल में पुलिस महानिदेशक की स्थिति खुला रहस्य है। यही वजह है कि मैं कहता हूं कि हमारे पास ‘राजनीतिक पुलिस’ है। हर दिन हम बम विस्फोट या बम मिलने की खबरें सुन रहे हैं.’ पश्चिम बंगाल के राज्यपाल और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के बीच टकराव हाल में और बढ़ गया, जब पार्टी नेताओं के एक समूह ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर धनखड़ को पद से बर्खास्त करने की मांग की।

 

 

 

टीएमसी ने राजयपाल पर किया पलटवार

 

 

धनखड़ (Bengal Governor) को राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव की ज्यादा फिक्र हो रही है. श्री घोष ने सवाल किया कि राज्यपाल को पहले अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए कि वह राज्य के संवैधानिक प्रमुख की भूमिका निभायेंगे या फिर मुख्य चुनाव आयुक्त की जिम्मेवारी निभाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव कराने की जिम्मेदारी चुनाव आयोग की है. ऐसे में धनखड़ बार-बार राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव पर बात कर रहे हैं। तृणमूल नेता ने यह भी आरोप लगाया कि धनखड़ राज्यपाल नहीं, बल्कि भाजपा के नेता जैसा व्यवहार कर रहे हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *