Coronavirus in West Bengal: 24 घंटे में आए 21 हजार से ज्याद मामले, विशेषज्ञ बोले- सुपर स्प्रेडर बन सकता है गंगासागर मेला

गंगासागर मेला.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने आगाह किया है कि जब देश कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण की तीसरी लहर की ओर बढ़ रहा है,ऐसे वक्त में सागर द्वीप पर होने वाले धार्मिक आयोजन गंगासागर मेले को अनुमति देना ‘सुपर स्प्रेडर’ घटना साबित हो सकती है. सुपर स्प्रेडर का अर्थ है कि संक्रमितों के जरिए संक्रमण का तेजी से फैलना. विशेषज्ञों का कहना है कि हरिद्वार,प्रयागराज और अन्य स्थानों पर लगने वाले कुंभ मेले के समान ही इस मेले में भी लाखों की संख्या में लोग आते हैं और यह मेला संक्रमण के प्रसार का केन्द्र बन सकता है.

यह भी पढ़ें:कोरोना मुक्त हुए बाहुबली के कटप्पा उर्फ सत्यराज,अस्पताल से मिली छुट्टी

संक्रामक रोग एवं बेलियाघाटा जनरल (आईडी एंड बीजी) अस्पताल की प्रधानाचार्य डॉ अनिमा हलदर ने  कहा ,‘‘ यह (गंगासागर मेला) निश्चित रूप से एक सुपर-स्प्रेडर होगा. इसमें कोई संदेह नहीं है. लाखों लोग एकत्र होंगे और हमें डर है कि कोविड-19 सुरक्षा प्रोटोकॉल का उल्लंघन होगा.’’

उन्होंने कहा,‘‘यह निश्चित रूप से वायरस के प्रसार को बढ़ाएगा. यह मेला निश्चित रूप से प्रसार (कोरोनावायरस) का एक जरिया बनेगा. दैनिक मामलों की संख्या अभी की तुलना में कहीं अधिक होगी.’’

यह भी पढ़ें:दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 21259 केस हुए दर्ज, 23 मरीजों की मौत

लोगों के इकट्ठा होने पर प्रतिबंध लगाने की मांग

चिकित्सकों के एक फोरम ने कलकत्ता उच्च न्यायालय में एक रिट याचिका दायर कर लोगों के एकत्र होने पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी. याचिकाकर्ताओं ने राज्य सरकार को यह निर्देश देने का अनुरोध किया कि आठ जनवरी से 16 जनवरी तक मकर संक्रांति के अवसर पर कोलकाता से लगभग 130 किलोमीटर दूर स्थित सागर द्वीप पर वार्षिक गंगासागर मेला आयोजित न किया जाए.

हालांकि उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार से कोविड प्रोटोकॉल का पालन होने का आश्वासन मिलने के बाद मेले के आयोजन को अनुमति दे दी थी. डॉ हलदर की राय से डॉ हीरालाल कोनार ने सहमति व्यक्त की. उन्होंने कहा कि इस बात की आशंका है कि स्थिति हाथ से निकल जाएगी साथ ही उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होता है तो स्वास्थ्य देखभाल ढांचा बुरी तरह चरमरा जाएगा. डॉ कोनार ‘वेस्ट बंगाल ज्वाइंट प्लेटफॉर्म ऑफ डॉक्टर्स’ के संयोजकों में से एक हैं.

यह भी पढ़ें:Jammu Kashmir: पिछले 24 घंटों में 1,148 नए मामले आए सामने

कोरना के मामले

वहीं अगर पिछले 24 घंटे की बात करें तो पश्चिम बंगाल में 21,098 कोरोना के मरीज मिले, इसके साथ ही पॉजिटिविटी रेट भी 32.35 रहा. 19 मरीजों की मौत हुई. अब राज्य में कुल एक्टिव मरीज 1,02,236 हैं.

यह भी पढ़ें:कोरोना वायरस की रफ्तार बढ़ने से छत्तीसगढ़ सरकार हुई सतर्क, राज्य सरकार के कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम का आदेश