किसानों को आतंकी बता सरकार आंदोलन को भटका रही है-प्रियंका गांधी

Priyanka Gandhi

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने ट्रेक्टर रैली के दौरान मृतक किसान नवरीत के परिवार वालों से मुलाक़ात की। एक वीडियो वायरल हुआ था जिसके अनुसार 26 जनवरी को दिल्ली हिंसा दौरान नवरीत की ट्रैक्टर पलटने से मौत हुई थी। नवरीत उत्तर प्रदेश के रामपुर का रहने वाला था। इस मोके पर प्रियंका गणाधी बाड्रा ने नवरीत के परिवार के लोगों के साथ नवरीत की मौत पर सांत्वना दी। इस दौरान किसान आंदोलन को लेकर प्रियंका गांधी ने केंद्र सरकार पर जवाबी हमला भी किया।

 

 


 

यह बोली प्रियंका गांधी

 

नवरीत की अरदास में पहुंची प्रियंका गांधी ने कृषि कानून को लेकर कहा कि आंदोलन करने वाले लोगों को यह सरकार आंतकी बताती है। बिना नाम लिए प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि मौजूदा दौर में किसानों पर सबसे ज्यादा जुल्म हो रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार किसान कानून को वापस नहीं लेना चाहती है।

 

हरियाणा विधानसभा: अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले हुड्डा क्या खुद हैं अल्पमत में?

 

आंदोलन को अपने खिलाफ साजिश दिखा रही है सरकार

 

 

रामपुर में मोदी सरकार पर बरसते हुए प्रियंका (Priyanka Gandhi) ने कहा कि मौजूदा दौर में शहीदों को आतंकी बताते हैं और किसान आंदोलन को अपने खिलाफ साजिश के रूप में देखते हैं। सरकार किसानों पर बहुत बड़ा जुल्म कर रही है। अगर कोई नेता हमारी बात नहीं सुन रहा है तो वह किसी के काम का नहीं है। किसान आंदोलन को लेकर कांग्रेस महासचिव ने कहा कि हमें उम्मीद थी कि किसानों के लिए इस सरकार के दरवाजे खुलेंगे और सुनवाई होगी। अगर कोई नेता गरीबों की आवाज को नहीं सुन सकता है तो वह हमारा नेता नहीं है।

 

किसानों को रोकने के लिए लगाई किलें उखाड़ने का वीडियो वायरल

 

 

कृषि कानून को बताया किसानों के अधिकारों का हनन

 

कृषि कानून वापस लेने की मांग को दोहराते हुए प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने कहा कि किसानों का आंदोलन सच्चा आंदोलन है। यह देश के सभी किसानों का आंदोलन है। यह आंदोलन देशवासियों का है, देश के सभी लोगों का है। यह आंदोलन राजनीति से प्रेरित नहीं है। बता दें कि प्रियंका गांधी नवरीत की अरदास में रामपुर पहुंची थी। प्रियंका गांधी ने कहा की यह कानून किसानों के अधिकारों का हनन है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *