गुरलाल हत्या: कनाडा से रची गई थी हत्या की साजिश, पहले सिंघु बॉर्डर की थी योजना

Gurlal murder

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

पंजाब में दो दिन पहले हुई पंजाब के फरीदकोट के यूथ जिला कांग्रेस अध्यक्ष की ह्त्या (Gurlal murder) के मामले में कई बातें सामने आ रही हैं। हालांकि इसे किसान आंदोलन से भी जोड़ कर देखा जा रहा है। इस ह्त्या की जिम्मेदारी लॉरेंस विश्नोई गैंग ने ले ली है लेकिन अभी भी कुछ सवाल और कुछ तथ्य ऐसे हैं जो इस ह्त्या के पीछे रची गई साजिश को पंजाब के रास्ते दिल्ली और कनाडा तक के तार जुड़े हुए दिख रहे हैं।

 

जल्द ही पैट्रोल और डीजल के दामों में होगी कटौती- धर्मेंद्र प्रधान

 

 

आरोपियों ने पूछताछ में बड़ा खुलासा

 

आरोपियों ने पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है। स्पेशल सेल ने बताया कि गुरलाल (Gurlal murder) को सिंघु बॉर्डर पर मारने की साजिश रची गई थी। इस वारदात को अंजाम देने के लिए आरोपियों ने 9 फरवरी का दिन चुना था। उस दिन गुरलाल किसान आंदोलन में शामिल होने सिंघु बॉर्डर पहुंचे थे और प्लान के मुताबिक, आरोपी भी उनके पीछे प्रदर्शन स्थल पर पहुंच गए थे। हालांकि दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर किसानों की भीड़ को देख उन्हें अपना प्लान फेल होता नजर आया और पकड़े जाने के डर से वो वापस लौट गए।

 

यह जानकारी दे रहा है स्पेशल सेल

 

स्पेशल सेल के अधिकारियों ने बताया (Gurlal murder) कि इसके बाद आरोपी पंजाब के फरीदकोट के लिए रवाना हो गए थे, जहां उन्होंने अगले कई दिनों तक रेकी की थी। इसके बाद उन्हें जैसे ही मौका मिला उन्होंने गुरलाल की हत्या कर दी। अधिकारियों के अनुसार, इस हत्या का मास्टरमाइंड कनाडा में है और वहीं से उसने अपने गुर्गों को टारगेट किलिंग करने के लिए बोला था।

 

 

ऐसे हुई थी ह्त्या की प्लानिंग

 

 

गौरतलब है कि बीते गुरुवार को दो बाइक सवार बदमाशों ने पंजाब के फरीदकोट (Gurlal murder) में 34 वर्षीय युवा कांग्रेस नेता गुरलाल सिंह भुल्लर की 12 गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए थे। भुल्लर फरीदकोट युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष थे। इस हत्याकांड मामले में अबतक तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जो कि लॉरेंस बिश्नोई गैंग के सदस्य हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *