हिमाचल सरकार ने कंगना रनौत की सुरक्षा बढ़ाई, जानिए अब तक किन-किन बयानों ने बिटोरी सबसे ज्यादा सुर्खियां

Spread the love

रवि श्रीवास्तव

किसी के बाप का नहीं है महाराष्ट्र, महाराष्ट्र उसी का है जिसने मराठी गौरव को प्रतिष्ठित किया है। और मैं डंके की चोट पे कहती हूँ हॉ मैं मराठा हूँ ,उखाड़ो मेरा क्या उखाड़ोगे? -कंगना रनौत

महाराष्ट्र के नेताओँ और कंगना रनौत के बीच चल रही जुबानी जंग के बीच हिमाचल सरकार ने कंगना रनौत की सुरक्षा बढ़ा दी है। राष्ट्रपति के हाथों से तीन से ज्यादा अवॉर्ड ले चुकी कंगना की जान को खतरा है, ऐसे इनपुट के बाद हिमाचल सरकार ने सुरक्षा बढ़ाने का फैसला लिया है। इसकी जानकारी खुद हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि मैंने डीजीपी को आदेश जारी कर दिए हैं। कि कंगना रनौत की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाए।मुख्यमंत्री ने कहा कि कंगना की बहन और पिता का उन्हें फोन आया था। उन्होंने कंगना की सुरक्षा बढ़ाए जाने की मांग उठाई।जयराम ठाकुर ने कहा कि कंगना हिमाचल की बेटी और सेलिब्रिटी है इस कारण उनकी सुरक्षा राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि वह नौ सितंबर को मुंबई जा रही है। प्रदेश सरकार हिमाचल से मुंबई तक सुरक्षा देने पर भी गंभीरता से विचार कर रही है।

क्यों पड़ी सुरक्षा की ज्यादा जरूरत ?
सुशांत सिंह राजपूत को लेकर कंगना के दिए बयानों से महाराष्ट्र के नेता खासा नाराज थे, कंगना खुलकर मुबंई पुलिस पर निशाना साध रही थी, इसी बीच शिवसेना नेता ने उन्होंने मुंबई ना लौटने की बात कही, यहीं से विवाद बढ़ गया। जुबानी जंग तेज हुई और बात एक दूसरे को देख लेने तक पहुंच गई। कंगना ने अपने एक ट्वीट में यहां तक कह क्या था कि ‘वो मुंबई आ रही हैं किसी के बाप में दम हो तो रोक कर दिखा दें’

संजय राउत का ‘हरामखोर’ वाला बयान
कंगना और संजय राउत के बीच बयानों ने उस वक्त और तूल पकड़ लिया जब एक पत्रकार के पूछे सवालों पर संजय राउत अपनी मर्यादा भूलते हुए हरामखोर शब्द का इस्तेमाल करने लगे। इस शब्द को लेकर देश में उनकी खूब निंदा भी हुई, शिवसेना नेता संजय राउत द्वारा हरामखोर लड़की कहने पर अभिनेत्री कंगना रनोट ने कहा कि ऐसी घटिया मानसिकता के लिए देश की करोड़ों बेटियां उन्हें कभी माफ नहीं करेंगी। बेटियों का शोषण करने वालों को बढ़ावा राउत जैसे नेताओं के कारण ही मिला है। जब आमिर खान और नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि भारत में डर लगता है तो किसी ने उन्हें हरामखोर नहीं कहा। कंगना ने वीडियो ट्वीट कर कहा कि मैं मुंबई पुलिस की तारीफ करते नहीं थकती थी। पालघर मॉब लिंचिंग मामले में मुंबई पुलिस क्यों मुकदर्शक बनी रही।

जमकर बोली कंगना
कंगना ने आगे कहा कि सुशांत सिंह राजपूत के पिता की शिकायत तक दर्ज नहीं की गई। अगर इन मामलों में मैंने मुंबई पुलिस की निंदा की तो यह अभिव्यक्ति की आजादी है। देश आजाद है। मुझे बोलने व देश में कहीं भी जाने का हक है। कंगना ने कहा ति संजय राउत जी, आप महाराष्ट्र नहीं हैं। मैंने महाराष्ट्र की नहीं आपकी ¨नदा की है। मेरा जबड़ा तोड़ने व जान से मारने की धमकी दी जा रही है। मैं नौ सितंबर को मुंबई आ रही हूं। आपको व आपके लोगों को मेरा जबड़ा तोड़ना है, मारना है, तो मारें। इस देश की मिट्टी ऐसे ही खून से सींची गई है। देश की गरिमा और अस्मिता के लाखों लोगों ने बलिदान दिया है। मैं भी बलिदान देने को तैयार हूं।’

कंगना के पिता नहीं चाहते पंगा ?
कंगना भले ही बॉलिवुड से लेकर सत्ता में बैठे नेताओं से पंगे ले रही हो। लेकिन उनके घरवालों को ये सब पसंद नहीं है..खुद पिता ने कंगना को चुप रहने की नसीहत दी है। इसकी जानकारी कंगना ने अपने एक ट्वीट के जरिए दी। जिसमें उन्होंने लिखा कि आप माफिया से लड़ सकते हैं। सरकार को चुनौती दे सकते हैं, मगर घर में भावनात्मक ब्लैकमेलिंग से निपटना मुश्किल है। मेरे घर में जो हुआ वह आप सब देख सकते हैं। कंगना ने एक और ट्वीट किया। उसमें लिखा कि हर कोई लक्ष्मीबाई और भगत ¨सह चाहता है, लेकिन अपने घर में नहीं। सभी अभिभावक यही चाहते हैं उनके बच्चे आराम से जिंदगी व्यतीत करें।

कंगना को मिल रहा है समर्थन
भले ही बयानों के बाद कंगना की दुशमनी कुछ लोगों से बढ़ जाए, लेकिन इस पूरे मामले पर उनके समर्थन में भी लोग उतर रहे हैं..हरियाणा के गृहमंत्री अनिल बिज से लेकर महाराष्ट्र बीजेपी के नेताओँ तक ने कंगना के बयानों का समर्थन करते हुए उनके साथ खड़े होने की बात कही है..हालांकि अब कंगना मुंबई आएंगी तो विवाद कैसा होगा इसपर सबकी नजरें टिकी होंगी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *