Saturday, January 28, 2023
Homefeaturedहिमाचल प्रदेश: शिमला शहरी सीट 15 साल बाद कांग्रेस की झोली में

Related Posts

हिमाचल प्रदेश: शिमला शहरी सीट 15 साल बाद कांग्रेस की झोली में

- Advertisement -
कांग्रेस की जीत, 08 दिसम्बर (वार्ता)- हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला शहरी सीट पर कांग्रेस ने 15 साल के अंतराल बाद अपना परचम लहरा दिया है, जहां से इस पार्टी के उम्मीदवार हरीश जनार्था 3037 मतों से विजयी घोषित किये गये हैं।जनार्था ने चाय वाले प्रत्याशी के नाम से चर्चित भाजपा के संजय सूद को पराजित किया है। निर्वाचन आयोग के अनुसार जनार्था को 15803 और सूद को 12766 मत मिले। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के टिकेंद्र पंवार को 1400 और आम आदमी पार्टी के चमन राकेश को महज 328 मत मिले।
इस सीट पर सात उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। इनमें भाजपा और कांग्रेस को छोड़कर अन्य सात प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई। बहुजन समाज पार्टी के राकेश कुमार गिल को सबसे कम 46 मत मिले। 237 लोगों ने नोटा का बटन दबाया। भाजपा के वर्चस्व वाली शिमला (शहरी) सीट पर वर्ष 2003 में कांग्रेस के हरभजन सिंह भज्जी विजयी रहे थे। इसके बाद 2007 से 2017 तक भाजपा के कदावर नेता और मंत्री सुरेश भारद्वाज ने जीत की हैट्रिक लगाई।
इस बार के चुनाव में भाजपा नेतृत्व ने चौंकाने वाला कदम उठाते हुए भारद्वाज को शिमला शहर से सटे कुसुम्पटी से मैदान में उतारा था। शिमला से सूद को टिकट दिया गया। प्रदेश भाजपा कोषाध्यक्ष संजय सूद की शिमला के पुराने बस अड्डे पर चाय की दुकान है। भाजपा ने उनका प्रचार चाय वाले प्रत्याशी के रूप में किया।
- Advertisement -

Latest Posts