घुटने के दर्द को कम करने के चक्कर में बुजुर्ग के लगवाई 11 बार वैक्सीन

 

आजकल कई चौंकाने वाली खबरें आ रही हैं। अब ताजा खबर चौंकाने वाली है। दरअसल, यह खबर मधेपुरा जिले के पुरानी प्रखंड के औरई गांव की है | यहां के ब्रह्मदेव मंडल ने पिछले 10 महीनों में 11 बार अलग-अलग जगहों पर कोरोना की वैक्सीन ली है। ऐसे में उनका कहना है कि वैक्सीन लेने के बाद उनके घुटने का दर्द कम हो गया है | इसलिए उन्होंने इतने टीके लगवाए हैं। इतना ही नहीं, उनका कहना है कि उन्होंने लंबे समय तक ग्रामीण डॉक्टर के रूप में भी काम किया है। जब वह चौसा सेंटर 12वीं डोज लेने गए तो लोगों ने उन्हें पहचान लिया और फिर मामला उजागर हो गया|

ALSO READ: सोशल मीडिया पर वायरल हुआ इस बच्चे का नाम

दरअसल, वह अपना मोबाइल नंबर बदल कर टीका लगवाता था। मामले के बारे में बात करते हुए पुरानी चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है |सिविल सर्जन जांच के लिए पुरानी के लिए रवाना हो गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार ब्रह्मदेव मंडल डाक विभाग के सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं | वहीं सिविल सर्जन डॉ अमरेंद्र नारायण शाही ने कहा कि आईडी बदलना और बार-बार वैक्सीन लेना नियम के खिलाफ है और अब उन पर केस किया जाएगा |

ALSO READ: मौत को छूकर वापस आया पेंगुइन, वीडियो वायरल

टीका कब और कहाँ लगाया गया था?

पहली बार 13 फरवरी को पुरैनी पीएचसी में।
दूसरा डोज 13 मार्च को पुरैनी पीएचसी में था।
तीसरा डोज 19 मई को औराई उप स्वास्थ्य केंद्र में है।
चौथी खुराक 16 जून को कोटा में भूपेंद्र भगत के शिविर में थी।
पांचवां डोज 24 जुलाई को पुरैनी बड़ी हाट स्कूल के कैंप में था |
छठी खुराक 31 अगस्त को नाथबाबा स्थल शिविर में।
सातवां डोज 11 सितंबर को द बिग हाट स्कूल में था।
आठवीं बार 22 सितंबर को द बिग हाट स्कूल में।
नौवीं बार 24 सितंबर को स्वास्थ्य उपकेंद्र कलासन में।
10वीं बार खगड़िया जिले के परबट्टा में।
11वीं बार भागलपुर के कहलगांव में।
यह 12वीं बार था जब तैयारी जोरों पर थी।

फिलहाल इस मामले में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही गले में खराश बनी हुई है और अधिकारियों को कोई जवाब नहीं दे रहा है |

 

 

 

 

– कशिश राजपूत