राजस्थान में शिक्षा मंत्री के तीन रिश्तेदारों के RAS एग्जाम में चयन पर उठ रहे सवालों पर मंत्री ने दिया ये जवाब

 

राजस्थान में शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटसरा के रिश्तेदारों के राजस्थान प्रशासनिक सेवा में चयन को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है. जिसको लेकर अब बीजेपी नेता सुरेंद्र सिंह शेखावत ने शिक्षा मंत्री पर राजस्थान प्रशासनिक सेवा की परीक्षा में हेर-फेर करने का आरोप लगाते हुए इस्तीफा मांगा है.  दरअसलशिक्षा मंत्री की बहू प्रतिमा को भी साल 2016 के एक इंटरव्यू में 80 फीसदी नंबर मिले थे. अब उनके भाई गौरव और बहन प्रभा के नंबरों को भी इसी से जोड़कर देखा जा रहा है.

 

प्रतिभा के बल पर पास की परीक्षा 

 

तो वहीं इस पूरे मामले के बाद सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बने राजस्थान के शिक्षा मंत्री  गोविंद सिंह डोटसरा ने जवाब देते हुए कहा कि ऐसे 300 से ज्यादा लोग है जिनके नंबर 75 से 80 फीसदी के बीच मे आए है. इसके साथ ही उन्होंने ये भी साफ किया कि प्रतिभा के साथ उनके बेटे का रिश्ता उसके एग्जाम के बाद हुआ था.

 

रिश्तों की वजह से नहीं टैलेंट के दम पर पास की परीक्षा 

 

शिक्षा मंत्री डोटसरा ने कहा कि उनके बहू के भाई का दिल्ली पुलिस में पहले ही ASI के पद पर चयन हो चुका है. उन्होंने कहा कि अगर बच्चों में टैलेंट है तो इसमें उनका क्या दोष है. शिक्षा मंत्री ने ये भी साफ किया कि आरएएस एग्जाम में टैलेंट के बल पर ही अभ्यर्थियों का चयन हुआ है. किसी भी मंत्री की इसमें कोई भूमिका नहीं है. उन्होंने कहा कि किसी भी अभ्यर्थी को रिश्तों की वजह से एग्जाम में नंबर नहीं हासिल हुए हैं.

Share