देश में कोरोना संक्रमित हो रहे नेताओं की संख्या में बढ़ोतरी, क्या लगातार हो रही रैलियां है मुख्य वजह ?

 

VISHAL ADLAKHA

 

देश में कोरोना संक्रमण का कहर एक बार फिर से लोगों की मुश्किलें बढ़ा रहा है. कलाकार से लेकर बड़े-बड़े राजनेता तक हर कोई महामारी की चपेट में आ रहा है. फिर वो चाहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हो या फिर भाजपा सांसद मनोज तिवारी हो. कुछ दिनों से लगातार तमाम नेताओं के कोरोना संक्रमित होने की खबर सामने आ रही है, ऐसे में बड़ा सवाल ये उठता है कि क्या विधानसभा चुनाव से पहले नेताओं द्वारा की जा रही ताबड़तोड़ रैलियां इस मुख्य कारण है ? आईये जानते है इसके पीछे की असली वजह……

 

लगातार हो रही रैलियां 

 

गौरतलब है कि पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और गोवा समेत कुल पांच राज्यों में इसी साल विधानसभा चुनाव होने है जिसको लेकर तमाम राजनीतिक दलों के नेता जमकर रैलियां और विशाल जनसभाओं को संबोधित कर रहे है. एक तरफ जहां नेता लोगों से मास्त पहनने की अपील कर रहे है तो वहीं खुद बिना मास्क के कोविड प्रोटोकॉल्स की धज्जियां उड़ाते दिख रहे है. इसका सबसे बड़ा उदाहरण दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल है जो एक तरफ लोगों से दिल्ली में मास्क पहनने की अपील कर रहे थें. तो वहीं दूसरी तरफ पंजाब में चुनाव प्रचार के लिए बिना मास्क लगाए रैलियां को संबोधित, नतीजा ये हुआ कि सीएम साहब कोरोना पॉजिटिव पाए गए.

 

महाराष्ट्र में 24 से ज्यादा नेता कोरोना की चपेट में 

 

राजधानी दिल्ली के साथ-साथ देश के आर्थिक राज्य कहे जाने वाले महाराष्ट्र में भी कोरोना लोगों पर कहर बनकर टूट रहा है. अब तक यहां 24 से ज्यादा नेता कोरोना की चपेट में आ गए है.  6 मंत्री. 3 सांसद ..नौ विधायक कोरोना संक्रमित हो गए. उद्धव ठाकरे के जिन मंत्रियों को कोरोना हुआ उनमें महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री बालासाहब थोराट शामिल हैं. एजुकेशन मिनिस्टर वर्षा गायकवाड, महिला बाल कल्याण मंत्री यशोमति ठाकुर और नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे के नाम शामिल हैं. महाराष्ट्र के जो सांसद संक्रमित हुए. उनमें शिवसेना के सांसद अरविंद सावंत और बीजेपी सांसद सुजय विखे पाटिल जैसे नेताओं का नाम है.

 

ये भी पढ़े : किन कारणों से हुई थी CDS बिपिन रावत की मौत ? आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को रिपोर्ट सौंपेगी ट्राई सर्विस टीम