IND vs SA: टीम इंडिया का DRS पर निकला गुस्सा, कोहली एंड कंपनी ने जमकर सुनाई खरी-खोटी

विराट कोहली के अलावा अंपायर मराय इरासमस भी फैसले से हैरान दिखे.

भारत और साउथ अफ्रीका (India vs South Africa 2021) के बीच केपटाउन में खेला जा रहा तीसरा और आखिरी टेस्ट अपने अंजाम की ओर बढ़ रहा है. मैच के शुरुआती दो दिन की तरह तीसरे दिन भी जबरदस्त मुकाबला दिखा और टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका के सामने 212 रन का लक्ष्य रखा. इसके जवाब में साउथ अफ्रीका के लिए कप्तान डीन एल्गर और कीगन पीटरसन ने बेहतरीन साझेदारी की और अपनी टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाया. इस बीच एक डिसीजन रिव्यू सिस्टम (DRS) का एक फैसला बड़े बवाल की वजह बन गया, जिसने मैदान के अंदर और बाहर हर किसी को हैरान कर दिया और ऐसे में फूट पड़ा टीम इंडिया का गुस्सा. भारतीय कप्तान विराट कोहली समेत टीम के कई खिलाड़ियों ने स्टंप माइक पर आकर अपनी झुंझलाहट निकाली और कुछ ऐसी बातें कहीं, जो उन पर भारी पड़ सकती हैं.

ये घटना हुई साउथ अफ्रीका की पारी के 21वें ओवर में. भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन उस वक्त गेंदबाजी कर रहे. बाएं हाथ के बल्लेबाज एल्गर के लिए अश्विन ने राउंड द विकेट आकर गेंदबाजी की. उनकी चौथी गेंद को डिफेंड करने की कोशिश में एल्गर चूक गए और पैड पर गेंद लगी. भारत की अपील को अंपायर मराय इरासमस ने मान लिया और आउट दिया. एल्गर भी फैसले से सहमत दिख रहे थे, लेकिन आखिरी वक्त पर उन्होंने DRS ले लिया और यहीं से बवाल शुरू हुआ.

यह भी पढ़ें:किदांबी श्रीकांत समेत 6 अन्य भारतीय खिलाड़ी हुए Covid-19 संक्रमित, इंडिया ओपन 2022 से हुए बाहर

DRS ने पलट दिया फैसला

गेंद एल्गर के पैड में घुटने से नीचे लगी थी. आम तौर पर ऐसी स्थिति में गेंद स्टंप्स पर लगती हुई दिखती है, लेकिन जब थर्ड अंपायर रिप्ले देख रहे थे, तो बॉल ट्रैकिंग में दिखा कि गेंद बेल्स के बमुश्किल 2-3 मिलीमीटर ऊपर से निकल गई. इसने मैदान पर मौजूद टीम इंडिया को चौंका दिया. अंपायर इरासमस भी हैरान हो गए और कॉमेंट्री बॉक्स में बैठे एक्सपर्ट्स भी यकीन नहीं कर सके. फैसला पलट दिया गया और एल्गर को जीवनदान मिल गया. उस वक्त साउथ अफ्रीका का स्कोर सिर्फ 60 रन था.

अश्विन-कोहली और राहुल का फूटा गुस्सा

ये फैसला आने के तुरंत बाद भारतीय खिलाड़ी अपने जज्बातों पर काबू नहीं रख सके और उन्होंने टिप्पणियां शुरू कर दी. ओवर खत्म होने के बाद अश्विन ने मेजबान ब्रॉडकास्टर सुपरस्पोर्ट पर ताना कसते हुए स्टंप माइक के पास आकर कहा- “तुम्हें जीतने के बेहतर तरीके ढूंढने चाहिए, सुपरस्पोर्ट”.

जाहिर तौर पर कप्तान कोहली भी चुप नहीं रहने वाले थे. विराट ने भी स्टंप माइक के पास जाकर ब्रॉडकास्टर को निशाने पर लिया और कहा, “जब तुम्हारी टीम (साउथ अफ्रीका) गेंद चमकाती है तो उन पर भी ध्यान दिया करो. सिर्फ विरोधियों पर नहीं. हमेशा लोगों को पकड़ने की कोशिश करते रहते हो.”

कोहली का ये कमेंट इसी मैदान पर 2018 में साउथ अफ्रीका-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट की ओर इशारा करते हुए था, जिसमें ब्रॉडकास्टर के कैमरों ने ही ऑस्ट्रेलियाई फील्डर कैमरन बैंक्रॉफ्ट को गेंद पर सैंड पेपर इस्तेमाल करते दिखाया था, जिसके बाद तीनों पर प्रतिबंध लगा था.

विराट के अलावा केएल राहुल भी पीछे नहीं रहे और उन्होंने भी अपनी निराशा जाहिर की. राहुल ने कहा, “11 खिलाड़ियों के खिलाफ पूरा देश है.”

सिर्फ भारतीय खिलाड़ी ही नहीं, बल्कि एल्गर को आउट देने वाले अंपायर इरासमस भी हैरान थे. उन्होंने भी फैसले पर चौंकते हुए कहा- ‘ये असंभव है’.

साउथ अफ्रीका को फायदा, भारत पर कार्रवाई का खतरा

भारतीय टीम पर हावी हुए जज्बातों का फायदा साउथ अफ्रीका ने उठाया और कुछ खराब गेंदों को बाउंड्री के पार भेजा. एल्गर और पीटरसन ने अगले 8 ओवरों में तेजी से 41 रन जोड़ दिए, जिससे टीम दिन का खेल खत्म होने तक बेहतर स्थिति में पहुंच गई. वहीं अब सबकी नजर इस बात पर है कि मैच के बाद भारतीय खिलाड़ियों के व्यवहार पर मैच रेफरी किस तरह की कार्रवाई करते हैं, क्योंकि आईसीसी के नियमों के तहत अंपायरों के फैसले पर नाराजगी जताना अपराध है.

यह भी पढ़ें:IND vs SA: जसप्रीत बुमराह ने कराई टीम इंडिया की वापसी लेकिन तीसरे दिन साउथ अफ्रीका मजबूत स्थिति में