विदेश मंत्रालय ने कहा-चीन को अपनी हरकतों पर लगाम लगानी होगी और अनुशासन में रहें

Spread the love

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद बढ़ता जा रहा है। इसी बीच विदेश मंत्रालय ने अपना पक्ष रखा है। मंत्रालय ने कहा है कि भारत वार्ता के जरिए विवाद निपटाने के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन चीन को अपनी हरकतों पर लगाम लगानी होगी। विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को यह बात कही।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि हमने चीनी पक्ष के साथ हालिया गतिविधियों और आक्रामक कार्रवाइयों का मामला राजनयिक और सैन्य, दोनों चैनलों के माध्यम से साझा किया है। हमने उनसे अनुरोध किया है कि अनुशासन में रहें और अपने अग्रिम पंक्ति के सैनिकों कों ऐसी आक्रामक गतिविधियां करने से रोकें।

मंत्रालय ने कहा कि 31 अगस्त को, जब दोनों पक्षों के स्थानीय कमांडर स्थिति को सामान्य करने के लिए चर्चा कर रहे थे, तब भी चीनी सैनिकों ने उकसाने वाली कार्रवाई की थी। समय रहते रक्षात्मक कार्रवाई के चलते भारतीय पक्ष यथास्थिति को बदलने के लिए किए गए इन प्रयासों को रोकने में सक्षम रहा था।

विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘जैसा कि कल (सोमवार को) भारतीय सेना ने कहा था कि भारतीय पक्ष ने इन उकसाने वाली कार्रवाइयों का जवाब दिया था। भारतीय सेना ने क्षेत्रीय संप्रभुता की रक्षा और अपने हितों की सुरक्षा के लिए वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर उचित रक्षात्मक मानकों का पालन किया था।’

मंत्रालय ने कहा कि पिछले तीन महीने से ज्यादा समय से चल रहे विवाद को शांत करने के लिए भारत और चीन लगातार राजनयिक और सैन्य चैनलों के माध्यम से वार्ता कर रहे हैं। चीन इसका उल्लंघन कर रहा है और उसके सैनिक पैंगोंग त्सो झील इलाके में 29 और 30 अगस्त की रात को उकसाने वाले सैन्य अभ्यास में लगे रहे।

बता दें कि चीन की हरकतों पर नजर रखने के लिए और उसकी किसी अनावश्यक गतिविधि का जवाब देने के लिए भारत की तीनों सेनाएं अलर्ट पर हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *