भारत चीन के मध्य सवा घंटा हुई हॉटलाइन पर हुई बात, ड्रेगन को दिया कड़ा संदेश

India China

 

-अक्षत सरोत्री

 

भारत (India China) और चीन के मध्य आज काफी देर हॉटलाइन पर हुई। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने अपने चीनी समकक्ष वांग यी से 75 मिनट यानी सवा घंटे तक विस्तार से फोन पर बात की। इस दौरान एस. जयशंकर ने भारत की ओर से चीन को संदेश देते हुए कहा कि द्विपक्षीय संबंधों में सुधार के लिए यह जरूरी है कि सीमा पर शांति और स्थिरता के हालात बने रहें। इसके अलावा एस. जयशंकर ने चीनी समकक्ष से यह साफ किया कि हालात सामन्य बने रहने के लिए यह जरूरी है कि पूरी एलएसी सीमा पर सेनाओं की तैनाती कम रहे।

 

मुकेश अम्बानी के घर के बाहर से मिली कार थी चोरी की, बड़ा खुलासा कर सकती है पुलिस

 

अन्य मोर्चों पर भी सेना की तैनाती कम हो

 

एस. जयशंकर ने वांग यी से पैंगोंग लेक के अलावा अन्य मोर्चों (India China) पर भी सेना की तैनाती कम किए जाने को लेकर बात की। उन्होंने कहा कि सभी मोर्चों पर सेना की तैनाती कम हो यह जरूरी है। यदि ऐसा नहीं हो पाता है तो यह किसी के भी हित में नहीं होगा। विदेश मंत्रालय के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि भारतीय विदेश मंत्री ने संदेश दिया, ‘सीमा पर विवाद और सामान्य रिश्ते एक साथ नहीं चल सकते, जैसा चीन चाहता है।’ अधिकारी ने कहा कि बातचीत के दौरान चीन ने यह भी बताया कि क्यों उसने बीते साल मई में पैंगोंग लेक में अतिक्रमण किया था और 10 महीने बाद क्यों पीछे हटने पर राजी हुआ। अधिकारी ने कहा कि बातचीत में जयशंकर ने बताया कि संबंधों को बेहतर करने के लिए किन बाधाओं को दूर करने जरूरत है।

 

यह बातें की विदेश मंत्री ने स्पष्ट

 

 

विदेश मंत्री ने चीन (India China) से स्पष्ट किया कि सीमा पर उसके एकतरफा अतिक्रमण के चलते संबंध खराब हुए हैं। सीमा पर स्थिति बदलने की कोशिशों ने रिश्तों को प्रभावित किया है। चीनी विदेश मंत्रालय की ओर से दोनों देशों के मंत्रियों के बीच हुई वार्ता की जानकारी सार्वजनिक किए जाने के बाद भारत ने यह बयान जारी किया है। बता दें कि पैंगोंग लेक में भारत और चीन ने अपनी सेनाओं की तैनाती कम की है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *