विदेश मंत्रालय की चीन को दो टूक-सीमा पर शांति बहाल करने के लिए पूरी गंभीरता से करे काम

Spread the love

चीन के साथ जारी तनाव के बीच विदेश मंत्रालय ने कहा कि आगे का रास्ता कूटनीतिक और सैन्य वार्ता है. हम शांतिपूर्ण वार्ता के माध्यम से सभी मुद्दों को हल करने के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध हैं. हम मजबूती के साथ चीन से ये कहना चाहते हैं कि वह डिसइंगेजमेंट और डी-एस्केलेशन के जरिए सीमा पर शांति बहाल करने के लिए पूरी गंभीरता के साथ काम करे. जिम्मेदाराना तरीके से स्थिति को संभाला जाना चाहिए.

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह स्पष्ट है कि बीते चार महीने में हमने जो हालात देखे हैं वे प्रत्यक्ष रूप से चीनी पक्ष की गतिविधियों का नतीजा हैं. चीन की गतिविधियों का मकसद यथास्थिति में एकतरफा बदलाव करना है.

उधर सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने गुरुवार को लद्दाख का दो दिवसीय दौरा शुरू किया. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पेगोंग झील के दक्षिणी तट के आस-पास यथास्थिति को बदलने के चीन के हालिया प्रयासों के मद्देनजर क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति की व्यापक समीक्षा करने के मकसद से सेना प्रमुख का यह दौरा हो रहा है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *