ईरान ने की पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक, आतंकी संगठन से छुड़ाए अपने 2 सैनिक

surgical strike on Pakistan

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

पाकिस्तान की भारत के साथ संबंध अच्छे नहीं हैं यह तो दुनिया को पता है लेकिन और देशों के साथ भी संबंध खराब हैं इसका पता अब चला है। दरअसल में जब भारत ने दो बार पाकिस्तान के ऊपर सर्जिकल स्ट्राइक (surgical strike on Pakistan) की थी तो पाकिस्तान साफ़ तौर पर मुकर गया था। लेकिन अब एक और सर्जिकल स्ट्राइक पाकिस्तान के ऊपर ईरान ने की है जिसको लेकर पूरे विश्व में पाकिस्तान की नाक कटी है।

 

केजरीवाल-केंद्र आमने-सामने, डीटीसी ने पुलिस विभाग ने वापस मांगी 576 बसें

 

यह हुआ पूरा मामला

 

ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड्स ने (surgical strike on Pakistan) पाकिस्तान में आतंकियों के कब्जे से अपने 2 सैनिकों को मुक्त कराया है। ये सैनिक 2018 में किडनैप गए गए 12 सैनिकों में शामिल थे। पाकिस्तान के भीतर खुफिया जानकारी के आधार पर इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया। आईआरजीसी के हवाले से कहा गया है, ”आतंकी संगठन जैश उल-अदल की ओर से बंधक बनाकर रखे गए बॉर्डर गार्ड्स के दो सैनिकों को बचाने के लिए मंगलवार रात एक सफल ऑपरेशन को अंजाम दिया गया, इन्हें ढाई साल पहले अगवा किया गया था।” मुक्त कराए गए दोनों सैनिको को ईरान भेज दिया गया है।

 

16 अक्टूबर 2018 को आतंकियों ने किया था अपहरण

 

 

16 अक्टूबर 2018 को जैश-उल- अदल संगठन ने आइजीआरसी के 12 गार्ड्स का अपहरण कर लिया था। इन्हें बलूचिस्तान प्रांत (surgical strike on Pakistan) में रखा गया था। इसके बाद, दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों ने एक जॉइंट कमेटी का गठन किया था। 12 में से 5 सैनिकों को नवंबर 2018 में रिहा करा लिया गया था। इसके बाद 21 मार्च 2019 को पाकिस्तानी सेना ने 4 सैनिकों को मुक्त कराया था। जैश-उल-अदल या जैश-अल-अदल एक सलाफी जिहादी आतंकी संगठन है जो मुख्यतौर पर दक्षिणी-पूर्वी ईरान में सक्रिय है।

 

 

भारत भी कर चूका है दो बार सर्जिकल स्ट्राइक

 

भारत भी पाकिस्तान को दो बार जवाब दे चुका है। पहले उडी हमले के बाद भारत ने मुजफराबाद में सर्जिकल स्ट्राइक (surgical strike on Pakistan) करके कई आतंकियों को ढेर किया था। बाद जब पुलवामा में हमला हुआ तो भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक करके बालकोट में कई आतंकी ठिकानों का खत्म किया।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *