केसीएफ रच रहा है किसान नेता की हत्या की साजिश, आईबी और रॉ की रिपोर्ट

KCF

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

आज आईबी और भारत की खुफिया एंजेसी रॉ ने एक इनपुट जारी कर अंदेशा जताया है कि खालिस्तान कमांडो फोर्स (KCF) किसी किसान नेता या नेताओं की ह्त्या कर सकता है। जानकारी के अनुसार दिल्ली हिंसा में भी इसी संगठन का नाम सामने आ रहा है। और साथ पाकिस्तानी खुफिया एंजेसी आईएसआई भी इसका साथ दे रही है। खुफिया एजेंसियों- रॉ और इंटेलिजेंस ब्‍यूरो ने एक रिपोर्ट तैयार की है। इसमें कहा गया है कि खालिस्तान कमांडो फ़ोर्स के साजिशकर्ता बेल्जियम और यूनाइटेड किंगडम में बैठे हैं। उन्‍होंने बेहद शात‍िर अंदाज में दिल्‍ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे एक किसान नेता की हत्‍या करने की योजना बनाई है।

 

आजाद भारत में पहली बार 7 लोगों को मारने वाली शबनम को मथुरा जेल में होगी फांसी

 

 

खालिस्तान फ़ोर्स दोबारा अपना प्रभाव बनाना चाहता है पंजाब में

 

 

खालिस्‍तान कमांडो फोर्स (KCF) की योजना उस नेता को निपटाने की है जो ‘पूर्व में पंजाब से खालिस्तान कमांडो फ़ोर्स कैडर को निपटाने में शामिल रहा है।’ खुफिया एजेंसियां केसीएफ की ऐसी कोशिशों को ट्रैक कर रही हैं। सरकार के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने एएनआई से बातचीत में कहा कि भरोसेमंद इनपुट मिला है कि एक किसान नेता की हत्‍या की साजिश का प्‍लान था।

 

 

यह मिल रही है जानकारी

 

 

पता चला है कि केसीएफ (KCF) के तीन आतंकियों, जो बेल्जियम और यूके से हैं, ने दिल्‍ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे एक किसान की हत्‍या करने की योजना बनाई है। इनपुट के अनुसार, यह किसान नेता पंजाब में केसीएफ कैडर के खात्‍मे में कथित रूप से शामिल था। एजेंसियों को मिली जानकारी यह भी बताती है कि केसीएफ ने सोचा था कि ‘इस वक्‍त किसान नेता की हत्‍या से भारत में हिंसा बढ़ेगी और हत्‍या का ठीकरा भी सरकारी एजेंसियों या एक राजनीतिक पार्टी पर फोड़ा जाएगा।’

 

 

यह है केसीएलफ का मकसद

 

 

केसीएफ एक खालिस्‍तानी आतंकवादी (KCF) संगठन है। इसका मकसद अलग खालिस्‍तान की थ्‍सावना करता है। भारत में इस संगठन को आतंकी संगठन का दर्जा मिला हुआ। केसीएफ ने देश में कई हत्‍याओं को अंजाम दिया है। साल 1995 में पंजाब के तत्‍कालीन मुख्‍यमंत्री बेअंत सिंह की हत्‍या के पीछे भी यही संगठन था। केंद्र सरकार कई बार कह चुकी है कि दिल्‍ली में किसान आंदोलन के बहाने खालिस्‍तानी एलिमेंट्स अपनी पैठ बनाना चाहते हैं। हाल ही में कुछ खालिस्‍तान समर्थकों संग कई ऐक्टिविस्‍ट्स की वर्चुअल मुलाकात की जानकारी भी सामने आई है।

 

 

दिल्ली हिंसा की पुलिस कर रही है जांच

 

 

दिल्‍ली पुलिस उस षडयंत्र की जांच कर (KCF) रही है। पिछले दिनों केंद्र ने ट्विटर से सैकड़ों अकाउंट्स को बंद करने को कहा था क्‍योंकि वे ‘खालिस्‍तान से हमदर्दी’ रखते थे। दिल्‍ली में 26 जनवरी को हिंसा के मद्देनजर भी पुलिस ने 400 से ज्‍यादा ऐसे हैंडल्‍स की पहचान की थी जो पाकिस्‍तान से चल रहे थे और भड़काऊ ट्वीट कर रहे थे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *