केजरीवाल सरकार वायु प्रदूषण को लेकर भ्रम फैला रही: कांग्रेस

Spread the love

 

-प्रणय शर्मा, संवाददाता

 

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा कि  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल प्रदूषण फ्री दिल्ली के लिए वाशिंगटन विश्वविद्यालय के साथ मिलकर मार्च 2020 तक रिपोर्ट तैयार करके प्रत्येक 2 घंटे पर वायु प्रदूषण के कारकों का पता लगाने वाले नये मॉडल को जून 2020 तक तैयार करने की योजना थी।  उसके बगैर पराली जलाने पर किसानो को वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। उन्हांने कहा कि अरविन्द क्यों नही रिपोर्ट को सार्वजनिक करते?

 

प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार ने वायु प्रदूषण के कारको को लेकर कहा कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार वायु प्रदूषण का भ्रम फैला रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में प्रदूषण के प्रमुख कारको का पता लगाने के लिए 2015 में आई.आई.टी. दिल्ली और 2018 में एनर्जि रिसोर्स इंस्टीट्यूट ने अध्यन किया था जिसमें इन दोनो संस्थाओं ने दिल्ली में वायु प्रदूषण के लिए मुख्य कारक वाहन प्रदूषण का बताया। एनर्जि रिसोर्स इंस्टीट्यूट के अध्यन में वाहन प्रदूषण का 41 प्रतिशत, डस्ट को 21.5 प्रतिशत और इंडस्ट्री का 18.6 प्रतिशत योगदान बताया गया है। जिससे साफ है कि लोगों को गुमराह करने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री लगातार प्रदूषण के लिए किसानों को जिम्मेदार बता रहे है।

 

अनिल चौधरी ने दिल्ली की अरविंद सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उन्होंने सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था में कोई सुधार नही किया। जबकि पिछली कांग्रेस की दिल्ली सरकार ने डीटीसी के बेड़े में 4889 बसे छोड़ी थी जो घटकर सिर्फ 3600 रह गई। उन्होंने आगे कहा कि दिल्ली सरकार ने मेट्रो फेज-3 का काम 2 वर्ष व फेज-4 काम 3 वर्ष लटकाया और रिज मैनेजमेंट बोर्ड में सदस्य नहीं चुने जाने के कारण मेट्रो फेज 4 का काम एक बार फिर रुक गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *