कोरोना वैक्सीन को लेकर केजरीवाल का बयान: सभी श्रेणीओ को मिले बराबर का अधिकार

Share

 

भारत में कोरोना संक्रमण के चलते मरीजों की संख्या 90 लाख को पार कर चुकी है, ऐसे में वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने एक राहत भरी हुई ख़बर सुनाई है, जिसमे वह कह रही है कि कोविड-19 की वैक्सीन अगले साल फरवरी 2021 तक आ जाएगी और आम लोगों के लिए यह वैक्सीन अप्रैल तक उपलब्ध हो जाएगी।

 

 

जिसके बाद देश के सभी राज्यों में इसकी चर्चा चल रही है, जिस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने शुक्रवार को कहा कि प्रत्येक व्यक्ति की जिंदगी मायने रखती है, इसलिए COVID-19 से बचाव के लिए टीके के लिए कोई भी वीआईपी अथवा गैर वीपीआईपी श्रेणी नहीं होनी चाहिए, बल्कि इसके लिए कोरोना योद्धाओं, वरिष्ठ नागरिकों और अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

 

 

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस की ‘‘ तीसरी लहर” के बावजूद, स्थिति नियंत्रण से बाहर नहीं हुई है, क्योंकि शहर की सरकार ‘दिल्ली मॉडल’ के तहत परीक्षण, संक्रमितों का पता लगाना, पृथक-वास में भेजने आदि कार्य तेजी से कर रही है। उन्होंने कहा की पूरी दुनिया और दिल्ली सरकार बेसब्री से टीके का इंतजार कर रही है, अनुमान है कि वितरण योजना केंद्र सरकार तैयार करेगी। अगर वे हमसे सुझाव मांगते हैं, तो जब लोगों के टीकाकरण की बात आती है तो वीआईपी अथवा गैर-वीआईपी श्रेणियां नहीं होनी चाहिए, सभी समान हैं और सभी का जीवन महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *