केरल की अदालत ने नन रेप मामले में बिशप फ्रैंको मुल्लाकल को दी क्लीन चिट

Nun rape case
Nun rape case

Nun rape case : जालंधर सूबा के पूर्व बिशप से जुड़े फैसले की घोषणा से पहले कोट्टायम अतिरिक्त सत्र न्यायालय के बाहर भारी पुलिस बल तैनात किया गया था।

अदालत से बाहर निकलते समय, मुलक्कल ने कहा, “भगवान सर्वोच्च हैं, सत्य की जीत हुई”।

यह भी पढ़ें : बीजेपी छोड़ सपा की साइकिल पर सवार होंगे स्वामी प्रसाद, दारा सिंह और धर्म सैनी समेत कई विधायक

फ्रेंको मुलक्कल भारत के पहले कैथोलिक बिशप हैं जिन्हें एक नन के यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। उसे 2018 में गिरफ्तार किया गया था।

नन ने अपनी शिकायत में कहा था कि 5 मई 2014 को बिशप ने कुराविलांगड कॉन्वेंट का दौरा किया और रात में उसे अपने कमरे में बुलाया और उसके साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया। नन ने आरोप लगाया था कि 2014 से 2016 के बीच बिशप ने उसके साथ 13 बार रेप किया।

यह भी पढ़ें : Bengal Train Accident: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने यात्रियों के परिवार जनों के प्रती संवेदना प्रकट की