अमेरिका को किम-जोंग-उन की चेतावनी, कहा- ‘सरकार बदलने से नहीं बदलेगा रुख’

Kim Jong-Un

अक्षय तेजन

 

जल्द ही जो बाइडन (Jo Biden) अमेरिका (America) के राष्ट्रपति पद की शपथ लेने वालें है लेकिन इससे पहले ही उत्तर कोरिया (North Korea) के तानाशाह किम जोंग-उन (Kim Jong-Un) ने अमेरिका को चेतावनी (Kim Jong-Un’s Warning to America) दे डाली है। किम जोंग ने परमाणु हथियारों को बढ़ाने के साथ ही पहले से बेहतर हथियारों की प्रणाली विकसित करने की बात कही। साथ ही उन्होंने कहा कि अमेरिका के साथ संबंध इस बात पर निर्भर करेंगे कि क्या वह अपनी नीति को बदलेगा या नहीं। कहा जा रहा है कि किम जोंग की इस चेतावनी के पीछे की वजह नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन पर दबाव बनाना है।

 

LADDAKH: चुसुल सेक्टर में गुरुंग घाटी के पास पकड़ा गया चीनी सैनिक, PLA को भेजा संदेश

 

जानकारी के मुतबिक सत्ताधारी वर्कर्स पार्टी कांग्रेस के दौरान किम (Kim Jong-Un) ने अपने अधिकारियों से कई हथियारों को ले जाने में सक्षम मिसाइलें, पानी के नीचे लॉन्च होने वाली न्यूक्लियर मिसाइलें, जासूसी सैटलाइटंस और परमाणु क्षमता वाली पनडुब्बियां बनाने को कहा है। उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया को अपने हमले की सटीकता बढ़ानी होगी और 15 हजार किलोमीटर तक मारक क्षमता विकसित करनी होगी। माना जा रहा है कि यह दूरी अमेरिका की ओर इशारा है। इसके अलावा लंबी दूरी की मिसाइलों पर छोटे और हल्के परमाणु हथियार ले जाने की तकनीक विकसित करने को कहा गया है।

 

कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने किम के हवाले से कहा है कि उत्तर कोरिया तब तक परमाणु हथियार इस्तेमाल नहीं करेगा जब तक पहले उसके खिलाफ हथियार इस्तेमाल करने की कोशिश न की जाए। हालांकि, उन्होंने साफ कहा कि अमेरिकी हमले के खतरे को देखते हुए देश की सैन्य और परमाणु क्षमता को मजबूत करना जरूरी है। किम ने इस दौरान अमेरिका के किसी कदम का जिक्र नहीं किया जबकि पहले दक्षिण कोरिया के साथ उसके सैन्य अभ्यास, अमेरिकी सर्विलांस एयरक्राफ्ट और दक्षिण कोरिया में अमेरिकी सेना की मौजूदगी को उसके खिलाफ कार्रवाई मानता रहा है।

 

CHINA: कोरोना का कहर, चीन के हेबेई में फिर लॉकडाउन की स्थिति, अन्य देशो के हाल भी कुछ ऐसा ही

 

अमेरिका को अपना सबसे बड़ा दुश्मन बताते हुए किम ने कहा है कि देश का ध्यान उसकी क्रांति में सबसे बड़ी रुकावट अमेरिका को जवाब देने पर होना चाहिए। और अमेरिकी सैन्य खतरे के खिलाफ रक्षा बढ़ाई जाने के बाद ही कोरिया में शांति और संपन्नता आएगी। उन्होंने यह भी कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि अमेरिका में सरकार किसकी है, कोरिया के खिलाफ उसका रुख बदलेगा नहीं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *