जानिए चंदन के ऐसे गुणों के बारे में, जिन्हें जानकर आप भी चंदन का इस्तेमाल करेंगे

चंदन
चंदन

चंदन: आपने चंदन के बारे में सुना और पढ़ा होगा।

वहीं भारत में माथे पर इसे लगाने की परंपरा काफी पुरानी है।

इतना ही नहीं हिंदू धर्म की पूजा में भी इसका विशेष महत्व है।

जी हां और इसके अलावा कई कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।चंदन के 8 बेहतरीन फायदे और नुकसान - Sandalwood Benefits and Side Effects in  Hindi

जी हां, बाजार में अनगिनत उत्पाद हैं, इसके फेस पैक से लेकर परफ्यूम और रूम फ्रेशनर तक।

हालांकि बदलते चलन के बीच भी लाखों लोग हैं जो माथे पर इसका तिलक लगाते हैं।

ऐसे में आज हम आपको इसके ऐसे गुणों के बारे में बताने जा रहे हैं,

जिन्हें जानकर आप भी इसके पेस्ट का इस्तेमाल करने लगेंगे-

बुखार से राहत- बुखार में शरीर के तापमान को कम करने के लिए अक्सर सिर पर ठंडे पानी की पट्टी लगाई जाती है।

हालांकि, बुखार से निपटने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है।

दरअसल चंदन की तासीर ठंडी होती है और बुखार में माथे पर चंदन का लेप लगाने से यह प्राकृतिक

औषधि की तरह काम करता है।

दरअसल, चंदन के लेप से शरीर का तापमान सामान्य होने लगता है।चंदन के ये फैस पैक लाएंगे आपके चेहरे पर निखार और करेंगे मुंहासों को भी दूर,  आज ही आजमाएं | TV9 Bharatvarsh

also read: हाउस पार्टी आयोजन कर रहे हैं तो मेन्यू में शामिल करें मैंगो पेस्ट्री

ग्लोइंग स्किन – आप सभी को पता ही होगा कि कई कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में चंदन का इस्तेमाल होने लगा है |

हालाँकि, इन उत्पादों में रसायन भी होते हैं।

ऐसे में आप त्वचा में निखार लाने के लिए चंदन पाउडर का फेस पैक भी लगा सकते हैं।

जी हां, क्योंकि इससे न सिर्फ त्वचा में निखार आता है बल्कि रंगत की समस्या भी अच्छी होती है।Sandalwood farming Cost and Profit: चंदन की खेती कर एक पेड़ से कमा सकते हैं  6 लाख रुपए, जानें खेती का तरीका - How To Start Sandalwood Tree Cultivation  Sandalwood Cultivation Information

also read: हर रोज साधारण दाल खाकर हो गए हैं बोर, तो ट्राई करें लौकी चना दाल

सिर दर्द में कारगर- सिर दर्द की समस्या से राहत पाने के लिए आप चंदन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

दरअसल, कई बार गर्मी के कारण सिर की नसों में खिंचाव आ जाता है, जिससे सिर दर्द होता है।

ऐसे में चंदन का लेप सिर पर लगाने से दिमाग ठंडा रहता है और दर्द से भी राहत मिलती है।

– कशिश राजपूत