बंगाल चुनाव में भाजपा को रोकने के लिए एक कश्ती पर सवार होंगे लेफ्ट-कांग्रेस!

Bengal elections

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

पश्चिम बंगाल में चुनाव (Bengal elections) नजदीक आ रहे हैं। भाजपा और टीएमसी तो पहले ही आमने-सामने थे लेकिन अब कांग्रेस और लेफ्ट भी इस दौड़ में शामिल हो चुके हैं। वैसे तो किसी तरह से भी कांग्रेस ने कोई किसी तरह के गठबंधन का ऐलान नहीं किया है लेकिन संकेत जरूर दे दिए हैं कि लेफ्ट-कांग्रेस भाजपा को रोकने के लिए पश्चिम बंगाल में एक ही कश्ती में सवार हो सकते हैं।

 

टूलकिट मामले में गिरफ्तार दिशा रवि को 5 दिन का पुलिस रिमांड

 

 

यह बोले कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी

 

पश्चिम बंगाल (Bengal elections) के कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस, बीजेपी का मुकाबला नहीं कर सकती है। कांग्रेस और लेफ्ट पार्टी का गठबंधन ही बीजेपी का मुकाबला कर सकता है। उन्होंने कहा कि बंगाल के लोगों को महसूस हो रहा है कि बंगाल में बीजेपी और टीएमसी पर भरोसा करने की बजाए कांग्रेस और लेफ्ट पार्टी के गठबंधन पर भरोसा किया जाए। दरअसल, अधीर रंजन चौधर की ये प्रतिक्रिया टीएमसी विधायक तापस रॉय के बयान पर आई है।

 

 

साथ चुनाव लड़ने के लिए हो सकता है समझौता

 

 

कांग्रेस और लेफ्ट ये अकेले नहीं कर (Bengal elections) सकते इसलिए उन्हें साथ आना चाहिए।” तापस रॉय ने कहा, “ममता बनर्जी और टीएमसी का विरोध कर उन्हें बंगाल में ज्यादा खतरनाक बीजेपी को आमंत्रित करने की गलती नहीं करनी चाहिए। उन्हें त्रिपुरा की स्थिति को देखना चाहिए और यह तय करना चाहिए कि क्या करना है।” बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब टीएमसी ने बीजेपी से लड़ने के लिए लेफ्ट मोर्चा और कांग्रेस के साथ एक मजबूत मंच के पक्ष में बात की है।

 

 

भाजपा को रोकेंगे तो क्या टीएमसी को भी साथ लेंगे

 

 

कई दूसरे टीएमसी नेताओं ने (Bengal elections) भी पहले इसी तरह की अपील की। टीएमसी विधायक के बयान पर बीजेपी की भी प्रतिक्रिया आई। बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, “टीएमसी को ये समझ में आ गया है कि अगर वह बीजेपी के खिलाफ अकेले लड़ती है तो नहीं जीत पाएगी। उन्हें (कांग्रेस, लेफ्ट और टीएमसी) को साथ लड़ना चाहिए। हम लोग बंगाल में लड़ाई और बदलाव लाने के लिए तैयार है।”

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *