Mahamrityunjaya Mantra Benefits: चमत्कारी है महामृत्युंजय मंत्र, रोजाना जाप करने से होंगे ये लाभ

महामृत्युंजय सबसे शक्तिशाली मंत्रों में से एक है जिसका आप जाप कर सकते हैं. ये मंत्र भगवान शिव (Shivji) को अति प्रिय है. आप महामृत्युंजय मंत्र (Mahamrityunjaya Mantra) का जाप सुबह 4 बजे या ऑफिस जाने से पहले कर सकते हैं. ऐसा माना जाता है कि ये मंत्र नकारात्मकता (negativity) को दूर करने में मदद कर सकता है. इस मंत्र का 108 बार जाप (chanting) करने से व्यक्ति को अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हो सकता है. ये मंत्र आपकी शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालता है. ऐसा माना जाता है कि ये एक मोक्ष मंत्र है आप भगवान शिव को संबोधित करते हैं आपकी लंबी उम्र को बढ़ावा देने, आपको और आपके प्रियजनों को असमय मृत्यु से बचाने के लिए उनका आशीर्वाद मांगते हैं. इसके अलावा महामृत्युंज मंत्र के जाप के और भी कई फायदे हैं.

यह भी पढ़ें:Makar Sankranti 2022: ये चीजें करें फॉलो, पर इस दिन इन कार्यों को करने की न करें भूल

महामृत्युंजय मंत्र के लाभ

ये मंत्र आमतौर पर ज्योतिषियों द्वारा उन लोगों को सुझाया जाता है जो पुरानी बीमारियों से पीड़ित हैं. इस मंत्र का प्रतिदिन जाप करने से बीमारियों को दूर रखा जा सकता है और आप स्वस्थ रह सकते हैं. रोज सुबह एक माला जाप करना लाभकारी हो सकता है. एक माला में 108 मनके होते हैं.

बहुत से लोग किसी न किसी कारण से अपने जीवन में रुकावटें और नकारात्मकता महसूस करते हैं. महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से उन्हें अपने जीवन पर किसी भी बुरी शक्तियों या नकारात्मकता के प्रभाव को कम करने में मदद मिल सकती है.

अगर परिवार में समस्या है या परिवार में कोई बीमार है तो उनके नाम से इस मंत्र का जाप किया जा सकता है. उस व्यक्ति के लिए प्रार्थना करें, उनका नाम लें और फिर नामजप करना शुरू करें.

ये भी पढ़ेंः Vastu tips: इस तरह की तस्वीरों को घर में लगाना माना जाता है अशुभ, जानिए

ज्योतिष के अनुसार इस मंत्र का जाप करने से आपको मानसिक शांति मिल सकती है. ये व्यक्ति के मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालता है. अगर वे प्रतिदिन मंत्र का जाप करते हैं तो व्यक्ति बहुत अधिक बेहतर महसूस करता है.

अगर आप ऐसे व्यक्ति हैं जो प्रतिदिन इस मंत्र का जाप नहीं कर सकते हैं तो आप इसे अपने घर या कार्यालय में प्रतिदिन 108 बार बजा सकते हैं. ये आपके घर से किसी भी तरह की नकारात्मक ऊर्जा को दूर करेगा और आपके आस-पास एक सकारात्मक वातावरण बनाने में मदद करेगा. हालांकि इस मंत्र का अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए, आपको इसे स्वयं ही पढ़ना चाहिए.

जन्म और मृत्यु दोनों स्वाभाविक हैं. ये तो सभी जानते हैं कि एक दिन उन्हें मरना ही है लेकिन मौत का ये डर हमें कभी नहीं छोड़ता है. इस मंत्र का जाप हमें मृत्यु के भय से मुक्त करता है. अन्य नकारात्मकताएं जो हमारे जीवन का हिस्सा हैं, जिनमें ईर्ष्या, लालच, नुकसान का डर, असुरक्षा भी शामिल हैं, हमें किसी न किसी रूप में मार देती हैं. ये मंत्र हमें सभी नकारात्मकताओं से मुक्त करने और सकारात्मक और स्वस्थ जीवन जीने में मदद करता है.

महामृत्युंजय मंत्र का जाप कभी भी और कहीं भी किया जा सकता है. सुबह स्नान के बाद इसका जाप करना उत्तम होता है. इस मंत्र का जाप करने के लिए रुद्राक्ष की माला का इस्तेमाल करना लाभकारी माना जाता है. बेहतर परिणामों के लिए आपको मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करना चाहिए.

ये भी पढ़ें – Somwar upaay: सोमवार के दिन करें भोलेनाथ के ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप, जानें इसका प्रभाव और महत्व