मासिक शिवरात्रि 2021: जून महिने में इस तारिख को है मासिक शिवरात्रि, जानें पूजा विधि और महत्व!

करिश्मा राय

 

हिंदू पंचांग के अनुसार, हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को शिवरात्रि मनाई जाएगी. मासिक शिवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व होता है. जून माह की मासिक शिवरात्रि 8 जून दिन यानी मंगलवार को है. मान्यता है कि मासिक शिवरात्रि के दिन भोलेनाथ की विधिपूर्वक व्रत रखने और पूजा करने से भक्त की हर मनोकामना पूरी होती हैं. भगवान शिव शंकर के साथ ही माता पार्वती की भी आराधना होती है क्योंकि शिव और शक्ति एक-दूसरे के पूरक माने जाते हैं.

 

मासिक शिवरात्रि जून तिथि और शुभ मुहूर्त

  • तिथि का प्रारंभ- 08 जून दिन मंगलवार को दिन में 11: 24 मिनट से 09 जून दिन बुधवार को दोपहर 01:57 मिनट पर होगा.
  • रात्रि का मुहूर्त 08 जून को प्राप्त हो रहा है, इसलिए मासिक शिवरात्रि 08 जून को ही मनाई जाएगी.
  • जून 2021 के मासिक शिवरा​त्रि की पूजा के लिए आपको 40 मिनट का समय प्राप्त होगा.
  • आप 08 जून को रात 12 बजे से देर रात 12:40 मिनट के मध्य तक मासिक शिवरात्रि की पूजा कर सकते हैं.

 

मासिक शिवरात्रि पूजा विधि

  • श्रद्धालुओं को शिवरात्रि की रात को जाग कर शिव जी की पूजा करनी चाहिए.
  • मासिक शिवरात्रि वाले दिन आप सूर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि के बाद भगवान शिव और उनके परिवार पार्वती, गणेश, कार्तिक, नंदी की पूजा करें.
  • पूजा के दौरान शिवलिंग का रुद्राभिषेक जल, शुद्ध घी, दूध, शक़्कर, शहद, दही आदि से करें.
  • शिवलिंग पर बेलपत्र, धतूरा और श्रीफल चढ़ाएं। अब आप भगवान शिव की धुप, दीप, फल और फूल आदि से पूजा करें.
  • शिव पूजा करते समय आप शिव पुराण, शिव स्तुति, शिव अष्टक, शिव चालीसा और शिव श्लोक का पाठ करें.
  • इसके बाद शाम के समय फल खा सकते हैं लेकिन व्रती को अन्न ग्रहण नहीं करना चाहिए.
  • अगले दिन भगवान शिव की पूजा करें और दान आदि करने के बाद अपना व्रत खोलें.

 

 

मासिक शिवरात्रि का महत्व

  • मान्यता है कि मासिक शिवरात्रि का व्रत-उपवास रखने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.
  • मासिक शिवरात्रि का व्रत रखने से विवाह में आने वाली अड़चनें दूर होती हैं.
  • शिवपुराण के अनुसार, कहते हैं कि जो भक्त सच्चे मन से व्रत को करते हैं, उनके सभी बिगड़े काम बन जाते हैं.
  • शास्त्रों में भोलेनाथ को जल्दी प्रसन्न होने वाला देव बताया गया है। कहते हैं कि वह भक्तों की पुकार जल्दी सुनते हैं और उनके कष्टों को दूर करते हैं.
Share